Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Jitendra Vijayshri Pandey

  Literary Captain

Getting Better

Abstract

Getting better reflect your beauty Beauty create your identity Identity make from your deeds

1    48 2

मुझमें यही ख़राबी है

Abstract

क्या कहूँ दस्तूर ही है कुछ ऐसा ज़माने का ख़ुद पर यक़ीन ही प्रमाण है जीत का।।

1    24 0

शाब्दिक श्रद्धांजलि जीत

Tragedy

न जाने कब पूर्णतया नियमों के पालन होंगे, न जाने कब विदेशों से तकनीकि के आयात होंगे।

1    48 1

जलगाँव की मासूम परी पायल

Tragedy

जातिवादिता आज फिर एक बार मासूम को निगल गयी।

1    43 1

माहवारी स्वच्छता दिवस : मासिक

Inspirational

दकियानूसी मानसिकता से ओतप्रोत मासिक धर्म मिथकों की बारिश से सिंचित मासिक धर्म। कब जननी को स्वत...

1    53 1

शहादत

Abstract

उस पत्नी की वेदना को मैं शब्दों में ढाल नहीं सकता बेटों और बेटियों की चीख़ों को कविता में पिरो नहीं ...

1    175 7

गौरव जी : सब-इंस्पेक्टर

Abstract

नाज़ होगा अब हर किसी को उसपे जो उसने कर दिया, अज़ीम शख़्सियत ने आज रुख़सारों को गुलज़ार जो कर दिया। अपन...

1    355 18

मेरी माँ का आज जन्मदिन है

Abstract

दुनिया की हर नारी को जीत का इस्तेकबाल है, क्योंकि आप हैं तभी तो ये पूरी क़ायनात है। Hero में her को...

1    50 2

सेना के सम्मान में

Others

मैं वाकिफ़ हूँ सत्ता के इन प्रेमियों से जो धर्म और जाति के नाम पर रोटियां सेंकते हैं कभी राम मंदिर ...

1    229 6

जन्मदिन

Others

बेशक तू मेरे पास आ नहीं पाया ग़ालिबन कुछ न कुछ कारण जरूर है। पर अपने दिल से वो बात छुपाना भी ग़लत है...

1    233 20

कुछ लोग

Others

काश ख़ुदा उन्हें भी कुछ समझ आ जाये जो ख़ुद को समझदार मानकर नादान हो गए।।

1    34 0

बेटी

Abstract

जनाब एक चिंगारी से ही चिराग का अस्तित्व बनता है।।

1    252 29

आज बहुत तन्हा हूँ मैं

Abstract Tragedy

राजनीति मत करना मेरे नेताओं शहादत कह रहा है भारत का ही बेटा हूँ मैं।

1    81 1

कल मोहब्बत में..

Action Tragedy

काश ! कुछ ऐसा हो जाये वतन में मेरे मौला, आतंक करना तो दूर सोचने से भी रूह कांप उठेगी।

1    51 2

तुझे छूकर कभी देखूँ

Romance

ख़्वाबों के आशियाँ में इस कदर डूब जाऊँ, कि बस सोचूँ और तू मिल जाये।

1    85 2

ज़िक्र तेरे गुलाब का

Romance

गुलाब में गुलाब हो गुलाब की ही गुलाब हो गुलाब की पंखुड़ियों में समायी गुलाब हो

1    192 5

मकर सक्रांति

Drama

मकर संक्रांति में सबने पुण्य ही माँगा।

1    130 6

खिड़की बंद पड़ी है कब से

Others

खिड़की बंद पड़ी है कब से, ज़ेहन में भ्रष्टाचार भरा जब से।

1    127 5

मासूमियत

Crime Drama Tragedy

आज फिर इक मासूमियत तड़प गयी, आज फिर वो हैवानियत हो गयी...!

1    1.3K 8

मासूमियत

Tragedy

क्या घर की लाडली स्कूल भी न जाये, क्या तेरी बेटी भी यूँ ही शिकार हो जाये।

1    1.7K 3

मासूमियत

Tragedy

क्या घर की लाडली स्कूल भी न जाये, क्या तेरी बेटी भी यूँ ही शिकार हो जाये।

1    502 4

एक प्यार की दास्तां ऐसी भी

Drama

पर प्रेम की राह आसां कब थी, काश ! कभी ख़ुद को उसकी जगह रखकर सोचा होता...!

1    1.2K 1

लक्ष्य है मेरा

Inspirational

उस झूठी दिखावटी उड़ान का कोई वजूद नहीं जहाँ से अपना ही बन जाये पराया सपना।

1    384 7

कुछ लिखना चाहूँ

Drama Fantasy

उन अनकहे दिल के जज़्बातों को, उन अनछुए दिल के पहलुओं को, जो हर सच्चे आशिक़ के दिल में समाये होते हैं...

1    1.2K 4

कोशिश तो कीजिये

Inspirational

कभी उपेक्षित लोगों की मदद करके तो देखिय, बजेगी दिल की वॉयलिन यक़ीनन आपके दिल में, कभी उनके चेहरे मे...

1    2.6K 6

एक और बात

Drama

ख़ुदा ने ही बनाया हम सबको क्यों ये बात समझ न आयी अब तक।

1    656 9