@89hyfqkw

Rakesh Kumar Das
Literary Captain
50
Posts
1
Followers
6
Following

I love to read poem and write poem .

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 23 Jun, 2021 at 13:54 PM

हर काम का नहीं होता कोई नाम, हर काम का नहीं मिलता कोई दाम। रिश्ते के लिए कुछ काम करने पड़ते, रिश्ते से फायदे उठाने वाले लोग खाली हाथ घूमते ।

Submitted on 12 Jun, 2021 at 17:25 PM

From the child's shoulder don't remove bag He is not a waste material, he is a swag .

Submitted on 12 Jun, 2021 at 17:25 PM

From the child's shoulder don't remove bag He is not a waste material, he is a swag .

Submitted on 12 Jun, 2021 at 15:30 PM

उसके कोमल कंधों पर केवल बैग रख दो उसका काम खेलकूद और पढ़ाई में छोड़ने दो गरीब बच्चों का हक मत छिनने दो मानवता को बचाकर बस उसे खिलने । -Stop child labour -

Submitted on 06 Jun, 2021 at 09:20 AM

अगर कम से कम दो बाहर के लोग भी किसी की मौत पर रो रहे हैं ना , तो समझलेना कि उसका जीवन सफल रहा।

Submitted on 04 Jun, 2021 at 04:03 AM

चाहे आपके पास कुछ हो या नहीं दूसरों की मदद करने की भावना होनी चाहिए । भले ही चंद्रमा का अपना प्रकाश नहीं है, लेकिन यह सूर्य से तो लेकर दूसरों को अंधेरे से बचाता है।

Submitted on 26 May, 2021 at 10:57 AM

मनुष्य की उपस्थिति में स्तुति और उसकी अनुपस्थिति में निंदा ही कलियुग की पहचान है । झूठी प्रशंसा के बजाय सामने निंदा होता तो हर इंसान अपने वजूद से वाकिफ हो जाता।

Submitted on 20 May, 2021 at 02:22 AM

जी हाँ ....मैं कोई महान कवि या लेखक नहीं हूँ। बस अपनी कल्पना और समाज की वास्तविक तस्वीर को कलम में चित्रित करने की एक छोटा सा प्रयास जरूर करता हूँ ।

Submitted on 18 May, 2021 at 13:25 PM

Tum chahe kitne bhi Nafrat kyon na karlo Me mera prar ka Installment bharta rahunga.


Feed

Library

Write

Notification
Profile