Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
★★★★★

© Renu Gupta

Inspirational

7 Minutes   14.1K    31


Content Ranking

बाबूजी नहीं रहे। मुझे अभी तक विश्वास नहीं हो पा रहा है। यूं लग रहा है, मुझे परेशान देख वह अपनी मधुर, स्निग्ध मुस्कान के साथ अभी मेरे सामने आकर खड़े हो जाएंगे और कहेंगे, ‘अरे बेटा, किसी भी परेशानी से घबराना नहीं चाहिए। उसका डटकर मुकाबला करना चाहिए। परेशानी ख़ुद-ब-ख़ुद राह दे देगी।’लेकिन क्या बाबूजी ख़ुद अपने जीवन में परेशानियों का डटकर मुकाबला कर पाए? वह तो जीवन भर संघर्ष करते रहे स्वयं अपने आपसे, अपने परिवार वालों से और समाज के बनाए गए खोखले जीवन-मूल्यों से।

लेकिन इस संघर्ष के बदले में उन्हें मिला क्या? सिवाय अपने परिचय क्षेत्र में थोड़े से सुयश, कीर्ति और नाम के। पुलिस विभाग जैसे प्रभावशाली महकमे में सरकारी वकील के पद पर कार्यरत थे बाबूजी, लेकिन भ्रष्टाचार, रिश्वत के लिजलिजे, रेंगते कीड़ों से आक्रान्त उस प्रभावशाली महकमे में बाबूजी अपने आपको इन सबसे अछूता रख पाए थे, सिर्फ अपने ऊंचे आदर्श मूल्यों तथा दृढ़ चारित्रिक बल के दम पर।

बाबूजी के मुँह से ही सुना था, दादाजी एक छोटी सी ज़मींदारी संभालते थे। लेकिन तिकड़मी, बुद्धि कौशल तथा चातुर्य के बल पर छोटी सी ज़मींदारी के सहारे उन्होंने यथेष्ट धन कमा लिया था। बाबूजी जैसे-जैसे बड़े हुए थे, उनके कानों में दादाजी के अपनी रैय्यत के प्रति अनाचार और अन्यायपूर्ण रवैये की छिटपुट ख़बरें पड़ती रहती थीं और शायद इन्हीं सबकी वजह से शुरू से ही बाबूजी के मन में सामंती मूल्यों के प्रति असंतोष का अंकुर फूट निकला था। समाज की इन विसंगतियों तथा विषमताओं के विरुद्ध प्रभावशाली आवाज़ उठाने के लिए उन्होंने वकालत का रास्ता अपनाया थयह बाबूजी का दुर्भाग्य ही था कि जिन व्यक्तिगत मान्यताओं तथा मानदंडों की वजह से सामाजिक दायरों में उन्हें अपूर्व मान-प्रतिष्ठा मिली, उन्हीं सिद्धांतों के चलते उन्हें स्वयं अपने ही घर में निरंतर उपेक्षा, अवमानना सहनी पड़ी। इसका कारण था माँ और बाबूजी की विचारधारा में मूलभूत विरोधाभास। माँ के पिताजी यानी मेरे नानाजी एक प्रतिष्ठित डॉक्टर थे। इसलिए शुरू से माँ हर प्रकार के सुख-सुविधापूर्ण वातावरण में पल कर बड़ी हुईं थीं।

माँ-बाबूजी के विवाह के महीने भर बाद ही दादाजी की मृत्यु हो गई थी। इसलिए उनकी मृत्यु के उपरान्त दो छोटे भाइयों और चार कुंवारी बहनों का भार बाबूजी पर आ गया था। शादी के फौरन बाद माँ की कच्ची, अपरिपक्व समझ इन ज़िम्मेदारियों के बोझ से जैसे असमय ही कुंठित हो गई थी। बाबूजी की सरकारी नौकरी की बंधी बंधाई तनख़्वाह ही इतने बड़े परिवार की इकलौती नियमित आय थी और इन संघर्षपूर्ण परिस्थितियों का माँ सफ़लतापूर्वक सामना नहीं कर पाई थीं। इन सबका सर्वाधिक प्रतिकूल प्रभाव पड़ा था माँ-बाबूजी के दांपत्य जीवन पर। बाबूजी चाहते तो रिश्वत की ऊपरी आमदनी से इस धनाभाव को मिटा सकते थे। शुरू से ही बाबूजी सरकारी कॉलोनी में रह रहे थे और मां जब कॉलोनी में रहने वाले बाबूजी के सहकर्मियों के घरों के शान-शौकत भरे रहन-सहन को देखतीं तो अपने आभावग्रस्त जीवन के प्रति उनके मन का उत्कट आक्रोश, क्रोध, कटुवाक्यों और तानों, उलाहनों के रूप में बह निकलता। उन्हें सबसे बड़ा दुख इस बात का था कि जहां बाबूजी के अन्य सहकर्मी मांग-मांग कर रिश्वत लेते थे, बाबूजी घर आई लक्ष्मी तक को ठुकराने में भी संकोच नहीं करते थेऐसी ही एक घटना मेरे स्मृति पटल में आज भी जीवंत है। कुछ लोग बाबूजी के कार्य के प्रति सराहना स्वरूप असली घी के तीन पीपे घर पर रखवा गए थे। शाम को दफ़्तर से लौटने पर जब बाबूजी को इस बात का पता चला था, वह माँ पर बहुत बिगड़े थे, ‘तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई इन पीपों को रखने की? मुझे भूखा रहना मंज़ूर है, लेकिन ईमान बेचना हर्गिज़ मंज़ूर नहींइधर, दीदी उम्र के 27 बसंत पार कर चुकी थीं, कई जगह उनके रिश्ते की बात चली थी, लेकिन हर जगह दान-दहेज पर बात आकर अटक जाती थी।

एक दिन नेहा दीदी के कार्यालय में कार्यरत उनके अविवाहित बॉस शिशिर के घर से नेहा दीदी के लिए रिश्ता आया था। शिशिर की माँ रिश्ता रोकने के दस्तूर के तौर पर दीदी को हीरे की अंगूठी पहना गई थीं और बाबूजी ने शगुन के रूप में पांच हज़ार एक रुपए शिशिर के हाथ में देते हुए रोके की रस्म पूरी कर दी थी।

फिर अगले रविवार को ही शिशिर के माता-पिता शादी की तारीख और अन्य व्यवस्थाओं आदि की बातें तय करने घर आए थे। शिशिर के पिता ने बाबूजी से कहा, ‘उपाध्याय जी, आपके दिए सुसंस्कारों की अनमोल थाती के साथ जब आपकी बेटी हमारे घर आएगी, हमारे घर में उजियारा हो जाएगा। हमें दहेज के नाम पर एक रुपया भी नहीं चाहिए। बस, हम चाहते हैं कि विवाह का प्रीतिभोज आप शहर के किसी भी पांच सितारा होटल में दें। हमें अपनी बहू के लिए हीरों का एक सेट ज़रूर चाहिए और हम चाहते हैं कि आप उसे एक बड़ी कार दें।’

यह सब सुनकर बाबूजी का चेहरा घोर संताप से मलिन हो उठा था और तनिक लड़खड़ाती ज़ुबान से उन्होंने शिशिर के पिता से कहा था, ‘शर्माजी, हमारे धन्य भाग्य कि आप जैसे ऊंचे खानदान के लोगों ने हमारी नेहा को अपने घर की लक्ष्मी बनाने के लिए चुना, लेकिन शर्माजी, मैं विवाह का प्रीतिभोज पांच सितारा होटल में किसी हाल में नहीं दे पाउंगा। न ही बड़ी गाड़ी और हीरों का सेट दे पाउंगा।लेकिन जवाब में शर्माजी ने हाथ जोड़ते हुए पिताजी से कहा था, ‘उपाध्याय जी, अगर आप हमारे स्तर की शादी नहीं कर सकते तो मुझे क्षमा कीजिए।’ यह कहकर सभी मेहमान उठकर चले गए थे, लेकिन अपने साथ ले गए थे घर भर की ख़ुशियां। सारे घर में मायूसी छा गई थी और माँ को एक मौका और मिल गया था बाबूजी को जलील करने का इस मुद्दे पर। इस प्रसंग के बाद घर भर में बेहिसाब बेबसी और हताशा भरा सन्नाटा पसर गया था।

उस दिन रात को कुछ हलचल सुनकर मैं उठ बैठा था। मैंने देखा था, बाबूजी सुबकियां भर-भर कर रो रहे थे। मैंने उनकी पीठ सहला हिम्मत बंधाने की कोशिश की थी, ‘बाबूजी, आप इतना निराश क्यों हो रहे हैं। कोई न कोई लड़का मिलेगा ही दीदी के लिए और फिर दीदी नौकरी तो कर ही रही है। सब ठीक हो जाएगा।’

बाबूजी ने कहा था, ‘बेटा, ज़िंदगी भर संघर्ष करते-करते मैं थक गया हूँ। अब तो इच्छा होती है कि सब कुछ छोड़-छाड़ कर मैं कहीं चला जाऊं।’

पूरी रात मेरी आँखों ही आँखों में बीती थी। मैं बस यही सोचता रहा था सारी रात, कि क्या इस दुनिया में ईश्वर सबके साथ न्याय करता है?

और बस अगले दिन तो गाज गिर ही पड़ी थी। सेवानिवृत्ति के बाद से बाबूजी स्वतंत्र रूप से वकालत करने लगे थे। उस दिन नौ मुकदमों की तारीखें पड़ीं थीं। शाम को कचहरी से वापस आते ही बाबूजी को अचानक दिल का दौरा पड़ा था और डॉक्टर के आने से पहले ही बाबूजी हमें छोड़कर चले गए थे, अपनी अनंत यात्रा पर।

बाबूजी की मृत्यु के महीने भर बाद ही हमारे साथ कुछ ऐसा घटा था कि हमारे पूरे परिवार का बाबूजी के बताए गए जीवन के उच्च-मूल्यों तथा आदर्शों पर विश्वास एक बार फिर पुख़्ता हो गया था। पिताजी की मृत्यु की ख़बर सुनकर उनके अभिन्न मित्र अखिलेश जी घर आए थे। बाबूजी की तेरहवीं पर सभी मेहमानों के जाने के बाद उन्होंने माँ से कहा था, ‘भाभी जी यह मौका तो नहीं है नेहा के विवाह की बातें करने का, लेकिन फिर भी मैं सोचता हूँ कि अगर मैं यह बात आपसे अभी कर लूं तो सही रहेगा। मैं आपकी बेटी नेहा का हाथ अपने बेटे चिरंजीव के लिए मांगता हूँ। वह अभी-अभी अमरीका से एमबीए करके लौटा है और बहुत नामवर बहुराष्ट्रीय कम्पनी में नौकरी कर रहा है। एक लाख रुपए मासिक तनख़्वाह है उसकी। बस मुझे उसके लिए आपकी गुणी बेटी का हाथ चाहिए।अखिलेश जी की बात सनुकर माँ का चेहरा आश्चर्य मिश्रित प्रसन्नता से दमक उठा था, लेकिन अगले ही क्षण उन्होंने अखिलेश जी से कहा था, ‘भाई साहब, हमारे अहोभाग्य कि आप नेहा को अपने घर की बहू बनाना चाहते हैं, लेकिन बहुत साधारण स्तर की शादी कर पाएंगे हम, मुश्किल से आठ-नौ लाख के बजट की। पहले आप बता दीजिए, अगर कोई मांग हो तो।’

‘अरे भाभी जी, हमें तो अपनी बहू सिर्फ़ एक साड़ी में एक रुपए के शगुन के साथ चाहिए।’

अखिलेश जी की बातें सुनकर घर भर में उत्साह-उमंग की लहर दौड़ गई थी। नियत वक्त पर नेहा दीदी और चिरंजीव का विवाह हो गया था। बाबूजी को याद करते-करते मेरी आँखों की कोरें अनायास गीली हो आईं थीं कि तभी हवा में तैरती मीठी सी सुगंध का अहसास मुझे हुआ था। कमरे का पर्दा हटाकर मैंने देखा था, अगले कमरे में माँ सिर झुकाए बाबूजी की फ़ोटो के सामने अगरबत्तियां जलाकर रख रहीं थीं। यह देखकर सीने में मानो बर्छी सी चुभ गई थी। 

जीते जी तो माँ ने बाबूजी की कभी कदर नहीं की। हर वक्त उन्हें अपमानित, प्रताड़ित करने में कोई कसर कभी नहीं छोड़ी, तो आज क्यों उनकी फ़ोटो के सामने सिर झुकाकर अगरबत्तियां जला रहीं हैं?

बाबूजी के महाप्रयाण को आज वर्षों होने आए, लेकिन यह प्रश्न आज भी मेरे ज़ेहन में उमड़-घुमड़ रहा है और मुझे उसका जवाब आज तक नहीं मिला। 

दृढ संघर्ष आदर्श

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..