Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सुख हँढाणी चूड़ियाँ
सुख हँढाणी चूड़ियाँ
★★★★★

© Sonia Arora

Drama

1 Minutes   1.5K    27


Content Ranking

समझ में नहीं आ रहा था कैसे बात करूँ डैडी से और क्या कहूँ उनसे कि साँप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे। दो महीने से यही सोचे जा रही थी मगर कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था।

मम्मी का वो चेहरा मेरे ज़हन/दिमाग़ से निकल ही नहीं पा रहा था। अक्सर मेरी आँखों में आँसू आ जाते थे।

Family Life Situations

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..