Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
हल और बैल
हल और बैल
★★★★★

© Sanjeev Jaiswal

Children

4 Minutes   14.3K    11


Content Ranking

काफी समय पहले की बात है। एक गांव में एक किसान रहता था। वह रोज़ सुबह हल और अपने बैलों के साथ खेत पर पहुंच जाता। खेतों को जोतता-बोता। खूब मेहनत करता। उसके खेत भी सोना उगलते थे। भरपूर फसल होती जिसे बेच कर किसान आराम से रहता था।

      किसान बहुत अच्छा था। वह बैलों की भी खूब सेवा करता। रोज़ हरी-हरी घास खिलाता। उन्हें नहलाता फिर उनकी मालिश करता। इससे उसके बैल भी खूब तंदुरूस्त हो गये थे। किसान ने उनके गले में सुंदर सी घंटिया बांध दी थीं। जब वे चलते तो घंटियों की आवाज़ सुन उसे बहुत अच्छा लगता।

      किसान हल का भी बहुत ध्यान रखता था। रोज़ उसकी धूल साफ करके उन्हें चमकाता। तीज-त्योहारों पर उनकी पूजा करता।

      धीरे-धीरे बैलों और हल को अपने-अपने ऊपर बहुत घमंड हो गया। बैलों को लगता कि किसान के घर खुशहाली उनके कारण है। अगर वे खेत जोतने न जायें तो वहां एक दाना भी पैदा न होगा। उधर हल को लगता कि खेतों की असली जुताई तो वे करते हैं। बैल तो खाली खेत में टहलते रहते हैं।

     एक दिन दोनों में बहस हो गयी। बैलों ने कहा, ‘‘खेत हम जोतते हैं। उसमें सारी मेहनत हमारी लगती है। इसीलिये किसान हमें अपने हाथों से खिलाता है।’’

    ‘‘जी नहीं, धरती का सीना फाड़ कर ताजी मिट्टी बाहर हम लाते हैं। इसलिये असली जुताई हमारी हुई। तभी किसान हमारी पूजा करता है’’ हल ने अकड़ते हुये कहा। 

      दोनों में झगड़ा बढ़ गया तो वे फैसला कराने किसान के पास पहुंचे। किसान दोनों को बराबर प्यार करता था। कुछ सोच कर उसने बैलों से कहा, ‘‘तुम्हारा कहना सच है। तुम बहुत मेहनत करते हो। जाओ आज खेत तुम जोत आओ।’’

     बैल खुशी से उछलते-कूदते खेत पहुंच गये। वे पूरा दिन खेत में चलते रहे। शाम को किसान ने आ कर देखा खेत ज़रा सा भी नहीं जुता था। किसान ने कुछ नहीं कहा। वह बैलों को ले कर चुपचाप घर लौट आया। 

     अगले दिन वह हल को कंधे पर लाद कर खेत पर पहुंचा। वहां उसने हल के नुकीले फल को ज़मीन के भीतर घुसा दिया फिर बोला, ‘‘तुम भी मेरे लिये बहुत मेहनत करते हो। आज यह पूरा खेत तुम जोत डालो।’’

     हल को वहीं छोड़ किसान घर लौट आया। बैल खेत में बहुत धीरे-धीरे चलते थे इसलिये ज़्यादा जुताई नहीं हो पाती थी। आज हल को अपनी काबलियत साबित करने का मौका मिला था। उसने सोचा कि शाम होने से पहले ही वह पूरा खेत जोत डालेगा।

      किसान के जाने के बाद उसने खेत को जी भर कर देखा फिर उसे जोतने आगे बढ़ा। मगर यह क्या? वह तो अपनी जगह से टस से मस भी नहीं हो पाया। जिस खेत को वह दौड़ते हुये जोतता था आज उसमें हिल भी नहीं पा रहा था। उसने बहुत ज़ोर लगाया। पसीने से तर-बतर हो गया पर एक इंच भी आगे न खिसक सका।

       शाम को किसान आया तो देखा आज भी खेत ज़रा सा भी नहीं जुता था। उसने कुछ नहीं कहा। चुपचाप हल को भी घर ले आया।

       हल और बैल, दोनों ही अपनी-अपनी असफलता से बहुत दुखी थे। दोनों एक दूसरे से आंखे चुरा रहे थे। यह देख किसान ने समझाया,‘‘हम सबकी शक्ति एकता में है। अलग-अलग हो कर हम सब अधूरे हैं। इसलिये आपस में लड़ने के बजाय अगर हम मिल जुल कर काम करें तो कोई भी काम असंभव नहीं है।’’

       बात हल और बैल की समझ में आ गयी। दोनों में एक बार फिर दोस्ती हो गयी। अगले दिन जब बैल घंटियां बजाते हुये खेत की ओर चले तो किसान ने हल को अपने कंधो पर लाद लिया। उस दिन सभी ने मिल कर खूब जुताई की। थोड़े ही दिनों में खेतों में हरी-भरी फसल लहलहाने लगी।

      तभी से इन तीनों की दोस्ती आज तक कायम है

हल बैल किसान

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..