Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पहले की दुनिया
पहले की दुनिया
★★★★★

© Jitendra Vijayshri Pandey

Others

1 Minutes   511    8


Content Ranking

बात उन दिनों की, जब मैं बच्चा हुआ करता था। शाम का वो सर्द भरा मौसम जलती आग के पास माँ, मामा और पड़ोस की मौसियों के साथ बैठना। बगल में हरे चने और भुना चना जिसे गांव में 'बिरवा' और 'होरा' कहा जाता है#बुंदेलखंड को छीलकर चबाना। कभी-कभी बाजरे की बाली का गरम-गरम दाना तो कभी माँ के हाथ की पोई मीठी रोटियां और नमक। सच पहले का जमाना कितना सुहाना था न। वो लालटेन का जलना। वो आग के बाद रजाई में घुसकर पढ़ना और पढ़ते-पढ़ते सो जाना। वो जमाना अब कहाँ? आग रूम हीटर और ब्लोअर में तब्दील हो गयी, लोगों का साथ बैठकर बतियाना चोरी, शक, एक-दूजे को कमतर समझकर स्टेटस पर ध्यान देना हो गया। उस चाय की चुस्की में और अब की सर्द की टी की सिप में न जाने कितने फासले आ गये। वो ठण्ड की रंगत, वो अपनों का साथ, वो यारों संग मस्ती न जाने कहाँ गुम-सी होती चली गयी क्योंकि जमाना प्रैक्टिकल के साथ ही साथ टेक्निकल भी तो होता गया। तभी तो दो लाइन याद आती हैं मुझे -
जो बीत गए दिन वो ज़माने नहीं आते।
आते हैं नये दिन मगर पुराने नहीं आते।।

बचपन मौसम गाँव

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..