Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पुकार
पुकार
★★★★★

© Apoorva Jagta

Inspirational Others

1 Minutes   573    20


Content Ranking

एक बहुत लम्बी सी दुपहरी...आस और उजास सीने में दबाये, मैं चली जा रही थी। नज़रें ज़मीं पर और मन किसी और ही लोक की सैर पर, इस मकान के सामने से गुजरते हुए ,मन के द्वार पर लिपटी साँकल जैसे किसी ने छूई हो। जाना पहचाना स्पर्श ...खुशबू ऐसी, जिस से कई सालों की दुआ सलाम रही हो ...पर परदेस में ये दस्तक किसकी ? ये दुलार भरी आहट !...अन्दर कहीं...स्मृतियों के मेघ बरसने लगे थे ...झमाझम ! यादें बड़ी बेगैरत होती हैं ...समय स्थान किसी का लिहाज नहीं करती।

मन था की अन्दर जा कर ये नन्हा सा सुख भोग लूँ ...अजनबीपन का आदी मन कैसे बावरा हुआ जा रहा था ...क्या था यहाँ ? मन का कोलाहल शान्त कर...आँखें बन्द की और एकाग्रचित्त होकर सुना तो अन्दर मुकेश गा रहे थे ..."मेरा नाम राजू घराना अनाम "... मेरा बचपन थिरक रहा था इस मकान के अन्दर ....और मेरे भीतर जो एक आँगन है ...उसमें ...माँ और पापा गुनगुना रहे थे ...मुस्कुरा रहे थे। (पापा बहुत अच्छा गाते हैं, मुकेश जी के गीत ) वो लम्बी दुपहरी कुछ कम बोझिल हो गयी थी ...और मेरे भीतर घर ठुमक रहा था ...नेह की ताल पर।

स्मृति खुशबू सुख

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..