Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
'मैं मगर बन चुका बग़ावत'
'मैं मगर बन चुका बग़ावत'
★★★★★

© Kritant Mishra

Abstract

1 Minutes   7.1K    19


Content Ranking

 

मेरी ज़बाँ पर नहीं टिकती ज़माने की ख़राश
जो मुझे बांध रहे हैं, उन्हें आईने से डरने दे ।
मैं फिर ख्वाहिशें बेशुमार बुन लूंगा
पैरों से ये ज़ंजीरें निकलने दे ।

मिट्टी का बना गुलदान हूँ मैं भी
मगर कागज़ी फूलों से नहीं सजूंगा ।
कुछ तो इज़्ज़त बना लूंगा ज़माने में
जो चिराग बन सदियों तक जलूँगा ।

तुम झुका सकते हो सर-नज़र
तुमको ये हक़ है ।
मैं मगर बन चुका बग़ावत
मेरी कहानी और है ।

'बन्दे तू इस राह न जा
आगे मुश्किल और गम है 
मैं मगर कहता यही
इक ज़िंदगानी कहाँ कम है ।

kritant

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..