Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शायद कभी !!
शायद कभी !!
★★★★★

© Arun Pradeep

Others

1 Minutes   14.4K    11


Content Ranking

जाने क्यूँ इस जहां में प्रेमी

वादा नहीं निभा पाते

दुबारा ग़र न मिलना हो

साफ़ बता क्यूँ न जाते !!


 

खाली पड़ी बेंच के आगे

दूर - दूर तक न कुछ  दीखे !

इंतज़ार में खड़े- खड़े हम

मन से हो गए ठूँठ सरीखे !


 

 


 

शायद कभी वो प्यार- पिपासा

कहीं तुम्हारे दिल को छुए

गुलाबी- सपनों- सा यह छाता

खड़े हैं अब भी लिए हुए !!
 

DREAM WORLD

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..