Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शुभ चिन्तक - 3
शुभ चिन्तक - 3
★★★★★

© Bharti Suryavanshi

Romance

6 Minutes   7.5K    34


Content Ranking

प्रिया को आता देख वो तेज़ी से भागने लगा... सोसाइटी में इस वक़्त चहल पहल शुरू हो चुकी थी प्रिया को ऐसे किसी के पीछे दौड़ता देख बमन अंकल ने प्रिया को रुकते हुए पूछा -"अरे अरे रुको डीकरा... किधर को दौड़ रहा है कोई problem है क्या “नहीं अंकल एक friend है रूठ गया है न तो मनाने जा रही हु डिटेल्स बाद में बताउंगी…! अभी जाने दो। प्रिया ने हाँफते हाँफते कहा।

वो लड़का सोसाइटी गार्डन के पास पहुंच गया था प्रिया उसे दूर से देख सकती थी... रुको रुको की आवाज़ लगाते हुए वो भी गयी... उसके जाते ही पीछे नीलम भी आयी उसने बमन अंकल से पूछा - “अंकल प्रिया?

Uncle ने इशारा करते हुए बताया - "वो उधर को गयी"

वो लड़का आगे प्रिया पीछे और उसके पीछे नीलम अंकल भी सोच में थे के ये हो क्या रहा है..? गार्डन में उस लड़के को सामने से मीरा आंटी ने रोका और कहा - "हैं कौन हो तुम और इस तरह यहाँ वहां भाग क्यों रहे हो?”

प्रिया ने ये देख मीरा आंटी को कहा -"Aunty Don’t let him go!"

वक़्त कम था अब लगभग ये राज़ खुलने ही वाला था के well wisher है कौन? लेकिन तभी उसने पास में से गुजरते फूलवाले की टोकरी उठा कर आंटी के ऊपर फूल फेंक दिए और भाग गया अगर कोई यू फूलो की बारिश कर दे तो खुशी तो होगी ही! आंटी की ख़ुशी का ठिकाना ना रहा वो उसे रोकना तो भूल ही गयी और पलभर में वो तेज़ी से दौड़ता हुआ गायब हो गया प्रिया और नीलम के हाथ निराशा ही लगी पर भागते वक़्त प्रिया ने उसका हाथ एक पल के लिए पकड़ा था और उस लड़के के Barcelate का एक टुकड़ा उसके हाथ लगा जिस पर R हुआ था

आज का दिन प्रिया अपने हाथ में उस टुकड़े को लिए हुए थी और उसने याद करते हुए नीलम से कहा -" काश उस रोज़ हमारी society में वो शादी ना होती तो वो फूल भी न होते। पर वो छुप क्यों रहा है? नीलम ने कहा -"मुझे क्या पता... लेकिन जानने का एक ही तरीका है तुझे तीनों को Date करना होगा देखे तो सही इनमे स तुझ में intrested कौन है?”

नीलम और प्रिया ने decide किया के सबसे पहले अभिषेक से बात की जाए। afterall वही एक था जिसने letters लिखे थे वो भी कुछ इस तरह जिसे लेकर प्रिया भी confusion में थी। अगले दिन प्रिया ओफिस में इस बात को लेकर असमंजस में थी की बात की शुरुआत कैसे की जाए, उसने आज पहली बार अभिषेक को देख कर simle दी और "hello" भी कहा अभिषेक इस बात से हैरान था की ना जाने आज इसे क्या हुआ है। Tea-Break के दौरान उसने अभिषेक को जाकर कॉफी भी दी पर अभिषेक ने एक shocking reaction के साथ सिर्फ “Thank you” कहा। प्रिया समझ गयी थी की इससे बात निकलवाना आसान नहीं होगा सो बेहतर है की राज से भी पूछ लिया जाए। प्रिया राज के पास गयी और कहा "Hi... मुझे तुमसे एक ज़रूरी बात करनी है...""हाँ बोलो, वैसे भी तुम कम ही बात करती हो" राज ने मुस्कुरा कर कहा।

“हाँ....Can we go for a date tonight…प्रिया ने सीधे ही पूछ लिया।

“What” राज थोड़ा shock में था और फिर उसने धीरे से प्रिया से पूछा “Are you seriously asking this to me? Can’t believe…!”राज, प्रिया से कुछ और कहे इससे पहले ही प्रिया के मोबाइल में रिंग बजी सामने वाले व्यक्ति ने कहा "My name is Aliya from Malhotra Fashions… am I taking to Ms. Priya?”

प्रिया - “Yes”.

आलिया- “Mr. Karan Rajput... provide me your no. to discuss about the designs.”

प्रिया को काम आ गया और दोनों की बात अधूरी रह गयी, इसलिए उसने राज को message कर 9 बजे dinner के लिए Restaurent पर invite किया। 7 बज चुके थे, प्रिया अब भी बॉस के साथ meeting में busy थी। इस वक़्त करन की बातों पर मन ही मन उसे गुस्सा सा आ रहा था पर शांति से वो हर बात का जवाब दे रही थी। meeting के बाद बिना देरी करते हुए वो आफिस से निकली उसकी ये हड़बड़ाहट देख करन ने पूछा “कहीं जाना है तुम्हें? पहली बार तुम्हारा ध्यान design से ज़्यादा घड़ी पर “हाँ sir, and getting late.” प्रिया ने कहा।

“OK, don't worry… I will drop you.” करन ने कहा।

ये शायद इतने महीनों में पहली बार था जब करन ने प्रिया से काम के अलावा कोई सवाल किया और घर भी छोड़ा। प्रिया ने घर पहुंच करन से ‘Thank you’ कहा और फिर तेज़ दौड़ती हुई सीधे रूम में तैयार होने चली गयी। नीलम को इस बारे में कुछ पता नही था वो देख रही थी कि यह किस तरह उतावलेपन में इधर से उधर समान ढूंढ रही है 2 तो dress बदल चुकी थी, उसे समझ आ गया था कि ज़रूर plan के हिसाब से किसी से मिलने जा रही है। उसने हंसते हुए प्रिया से कहा “take it easy… किसे बुलाया है date पर?”

“राज और देखो कितनी देर हो गयी 9 बजे बुलाया था और 9 तो यहीं बज गए। राज भी अब तक तीन बार फ़ोन कर चूका है।” प्रिया ने कहा “अच्छा अच्छा लेकिन सुन सीधे पूछ मत लेना, पहले उसे confidence में लेना।” नीलम ने advice दी

“कोशिश करूँगी, चल bye!” और इतना कह प्रिया जल्दी से restaurant जाने को निकली जहां राज पहले से ही उसका इंतजार कर रहा था। प्रिया ने उसे देख ‘hello’ कहा और देरी से आने के लिए माफी मांगी। दोनों आमने सामने चुप बैठे हुए थे, शायद दोनों को ही समझ ना आया के कहा से बात शुरू करे। राज ने finally गंभीर स्वर में कहा "look प्रिया, तुम मुझे गलत समझो इससे पहले एक Important बात कहनी है।”

प्रिया को लगा राज आख़िरकार well wisher होने की बात कबूल करने वाला है उसने कहा "I know तुम क्या कहना चाहते हो लेकिन इतने वक़्त तक ये बात छुपाने की ज़रुरत ही क्या थी? तुमने कौन सा कोई गुनाह किया है, राज - "हां पर कहना इतना आसान कहाँ था (थोड़े attitude में) वैसे मैंने कई लड़कियों को date किया है, Even I am Flirty too...but नीलम की बात अलग है उसके सामने आते ही मेरी बोलती बंद हो जाती है वो इतनी frank है की डर लगता है कहीं नाराज़ ना हो जाए इसलिए तो कई बार तुमसे भी बात करने की कोशिश की... पर लगता है तुमने गलत समझ लिया ! याद है तुम्हे... वो तुमसे मिलने कितनी बार आफिस आयी। कितनी बार हम ने तुम्हारा इंतज़ार करते हुए साथ समय बिताया है। I like her a lot! प्रिया हल्की सी मुस्कराहट के साथ राज की बातो को सुन रही थी जैसे उसे राहत हुयी हो ये जानकर उसने कहा "तो ये बात थी और मुझे लगा… खैर, तो तुम्हे नीलम से बात करनी चाहिए…”

राज "मतलब तुम्हे बुरा नहीं लगा”

प्रिया "बिलकुल भी नहीं”

राज "तो फिर ये date सुबह जो बात कर रही थी वो सब…”

प्रिया "वो एक लम्बी कहानी है चलो तुम्हे रास्ते में सुनाती हूँ , नीलम के लिए कोई gift भी ले लेंगे and Red Roses...अगर तुम पर गुस्सा आया भी तो roses देख के मारेगी नहीं।” प्रिया ने हंसकर राज से कहा वो बहुत ही खुश थी और राज हैरान था। प्रिया, राज को लेकर अपने घर गयी वो बहार ही रुक गयी और राज को door bell बजाने के लिए कहा जब नीलम ने दरवाज़ा खोला तो वो राज को हाथ में Roses और gift के साथ देखकर हैरान थी उसने कहा "ये सब क्या है? तुम तो प्रिया के साथ थे ना"

“था? हाँ... वो.. था.. पर नहीं हूँ ...you know मैं... मैं...” राज ने हकलाते हुए कहा

“क्या मैं... मैं... कर रहे हो ठीक से बोलो” ज़ोर से नीलम ने कहा

और फिर राज ने डर के मारे प्रिया को आवाज़ दी "प्रिया तुम ही इसे समझाओ..!

प्रिया जो पास ही छुपी हुयी थी वो हंसते हुए आयी और उसने नीलम को कहा "अरे यार, गुस्सा ना कर चल बताती हूँ क्या हुआ तुझे भी और इस राज को भी….पूरी कहानी !.

फूल लड़का निराशा

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..