Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बदलाव
बदलाव
★★★★★

© Deepak Singh

Inspirational

2 Minutes   7.4K    35


Content Ranking

एक लड़का सुबह सुबह दौड़ने को जाया करता था। आते जाते वो एक बूढ़ी महिला को देखता था। वो बूढ़ी महिला तालाब के किनारे छोटे छोटे कछुओं की पीठ को साफ़ किया करती थी । एक दिन उसने इसके पीछे का कारण जानने की सोची वो लड़का महिला के पास गया और उनका अभिवादन कर बोला ” नमस्ते आंटी ! मैं आपको हमेशा इन कछुओं की पीठ को साफ़ करते हुए देखता हूँ आप ऐसा किस वजह से करते हो ?” महिला ने उस मासूम से लड़के को देखा और इस पर लड़के को जवाब दिया ” मैं हर रविवार यहां आती हूँ और इन छोटे छोटे कछुओं की पीठ साफ़ करते हुए सुख शांति का अनुभव लेती हूँ। ” क्योंकि इनकी पीठ पर जो कवच होता है उस पर कचरा जमा हो जाने की वजह से इनकी गर्मी पैदा करने की क्षमता कम हो जाती है इसलिए ये कछुए तैरने में मुश्किल का सामना करते है । कुछ समय बाद तक अगर ऐसा ही रहे तो ये कवच भी कमजोर हो जाते है इसलिए कवच को साफ़ करती हूँ ।

यह सुनकर लड़का बड़ा हैरान था। उसने फिर एक जाना पहचाना सा सवाल किया और बोला “बेशक आप बहुत अच्छा काम कर रहे है लेकिन फिर भी आंटी एक बात सोचिए कि इन जैसे कितने कछुए हैं जो इनसे भी बुरी हालत में है जबकि आप सभी के लिए ये नहीं कर सकते तो उनका क्या क्योंकि आपके अकेले के बदलने से तो कोई बड़ा बदलाव नहीं आयेगा न !

महिला ने बड़ा ही संक्षिप्त लेकिन असरदार जवाब दिया कि भले ही मेरे इस कर्म से दुनिया में कोई बड़ा बदलाव नहीं आयेगा लेकिन सोचो इस एक कछुए की जिंदगी में तो बदलाव आयेगा ही न । तो क्यों न हम छोटे बदलाव से ही शुरुआत करें।

पीठ साफ़ कर्म

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..