Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
 बेटियाँ
बेटियाँ
★★★★★

© Asima Bhatt

Inspirational Others

1 Minutes   14.3K    20


Content Ranking

मुश्क़िल दौर में उम्मीद की सबसे सुंदर कविता होती हैं बेटियाँ  
ज़िन्दगी की धूप में खिली चाँदनी सी बेटियाँ
आसमान से उतरी परियों की झुण्ड सी बेटियाँ  
वह रोती है तो बहते हैं अनमोल मोती 
हँसती है तो बहती ही प्रेम की गंगा यमुना सरस्वती
गर्दन ऊपर उठा कर खिलखिलाती है तो झरते हैं हरश्रृंगार के फूल 
जब भी गोद में आ बैठती है 
उदास मौसम में भी झरने लगते हैं जंगल में अमलतास के फूल
गले लग जब चूमती हैं टिमटिमा उठते हैं लाखों तारे 
बेटियाँ  ही बचाये रखेंगी 
प्रकृति, पेड़, हवा और पानी 
वो रखेंगी आँचल से बाँधकर
नानी, दादी और माँ की दी हुई सीख 
और संसकारों की पोटली
सहेजे रखेंगी दहेज में मिले उपहार की तरह
वह नहीं मिटने देगी कुछ भी 
सम्भाले रहेंगी सदियों की सभ्यता 
भयानक से भयानक दौर में भी करती रहेंगी प्रेम 
अपने अंदर से निर्माण करेगी अपनी ही जैसी दुनिया
जनेगी नया भविष्य 
रचेगी नयी सृष्टि 
जहाँ बचेगी रहेगी हर हाल में जीने की उम्मीद 
इंसानियत की पूरी गरिमा के साथ 
मनुष्यता के साथ
बुरे से बुरे वक़्त में भी गाऐंगी 
सम्भावना के गीत
करेंगी सुंदर कल्पना
वही बचायेंगी 
सबकुछ

बेटियाँ

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post


Some text some message..