Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बेनाम रिश्ता
बेनाम रिश्ता
★★★★★

© Kavita jayant Srivastava

Drama Others

3 Minutes   829    23


Content Ranking

"काया ..! अब मैं तुम्हारे साथ फ्लैट शेयर नहीं कर पाऊंगा , मैं कहीं और शिफ्ट कर रहा हूँ..!" रणवीर ने बेबाक होकर कहा

"मैं जानती थी रणवीर..! कि एक दिन तुम यही बोलोगे ..! अपने सस्ते से बिना ब्रांड वाले, मोबाइल में उलझी काया बोली.. उफ्फ उस दुकानदार ने कहा था 'मैडम गिरने मत दीजियेगा बस, ये फ़ोन बहुत चलेगा ..! आज बाथरूम में हाथ से स्लिप होकर गिर गया फोन ..अब मैं क्या करूँ? जब तक मेरा ब्रांडेड फोन ठीक नहीं हो जाता सोचा था इसी से काम चला लूंगी...उफ्फ!

"हां ,तो क्या बोल रहे थे तुम ? तुम मेरे साथ फ्लैट नहीं शेयर कर पाओगे..? ये तो मैं उसी दिन जान गई थी रणवीर ! जब तुम्हें तुम्हारी नई 'सो कॉल्ड फ्रेंड' के साथ देखा था नशे में झूलते हुए..!" फाइन आई एम रेडी फ़ॉर एनीथिंग.!..और कुछ ? " काया ने झुंझलाते हुए कहा ..

(उसे वो दिन याद आ गया जब माँ ने उसके और रणवीर के इस रिलेशन पर सवाल उठाए थे..और कहा था ऐसे रिश्तों का कोई भरोसा नही होता , शादी नहीं करनी तो पति पत्नी की तरह क्यो रहते हो तुम दोनों ?

तब काया ने माँ से खुद कहा था, 'माँ अभी हम दोनों शादी के लिए तैयार नहीं..पहले शादी के लिए मानसिक रूप से तैयार तो हो लें..!' और मां चिंता की लकीरें , माथे पर लाने से न रोक सकी थीं.. तब काया को ये सब बेवजह लगा था.. पर आज वही हुआ जो माँ की आंखों ने भांप लिया था..पर वो रनवीर से कुछ कह भी तो नही सकती थी, आखिर उनका रिश्ता बेनाम जो था ..एक दूसरे के लिये कोई उत्तरदायित्व भी नही ,बन्धन भी नहीं ..फिर कैसा प्रतिवाद ? " तभी उसकी तन्द्रा रणवीर की आवाज़ से भंग हुई

"तो.. अब तक जो खर्चे हम शेयर कर रहे थे ,देख लो उसका हिसाब कर लो, फ्लैट रेट , इलेक्ट्रिसिटी बिल , और स्पेन्सेस.. बांट कर मुझे मेरे हिस्से के खर्च को बता देना काया..! मैं नहीं चाहता तुम मुझ पर कोई एहसान करो..!" सिगरेट जलाते हुए रनवीर ने कहा

"हां ठीक है.. अनायास ही कह कर काया ने फोन के बटन को ऑन किया तो स्क्रीन दिख उठी..और फोन सही हो गया ..काया ने सोचा शुक्र है..ये गड़बड़ नहीं हुआ , वरना बहुत प्रॉब्लम हो जाती..तभी उसका फोन बज उठा और माँ की कॉल आ गयी..! उसने फ़ोन रिसीव किया तो रणवीर जाने का इशारा करते हुए दरवाज़ा खोल के बाहर निकल गया..! फोन ऑन था माँ हेलो हेलो कर रही थी ..

आँसू ढुलक कर गालों पर आ गिरे.. काया ने कहा .

" हेलो माँ..!

"कहाँ थी बेटी ? तुम्हारा फोन नहीं लग रहा था ..?

" कहीं नही , माँ मेरा फोन खराब हो गया था , सर्विस सेंटर में है , एक हफ्ते में बन जायेगा..तब तक काम चलाने के लिए, एक बिना ब्रांड का सस्ता सा फोन ले लिया था, पर वो अभी बाथरूम में हाथ से छूट कर गिर गया तो ऑन ही नहीं हो रहा था.. बड़ी मुश्किल से ऑन हुआ तो तुमसे बात हुई..!" बालकनी में खड़ी काया नीचे रनवीर को कार में बैठते देख रही थी

"ओह्ह, मैंने कितनी बार कहा है ,ऐसी चीजों का कोई भरोसा नहीं होता..जिन पर ब्रांड नेम न हो..!"

हां माँ! तुम एकदम सही कहती हो..कार उसकी आँखों से ओझल होने लगी ..! और अचानक माँ की आवाज़ आनी बन्द हो गयी ..उसने फोन देखा तो वो बिना ब्रांड का फ़ोन फिर से बंद हो गया था।

फ़ोन शादी रिलेशन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..