Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
असली ज्ञान
असली ज्ञान
★★★★★

© NAVEEN KUMAR SAH

Inspirational

1 Minutes   286    10


Content Ranking

रमेशबाबू (शिक्षक) रोज देख रहे थे कि राजेश पड़ोसी के पौधा में पानीें डाल देता है। उनसे रहा नही गया, एक दिन पूछ हीं बैठे-"अरे रजेशबा ई तू मोहना के पेड़ में काहे पानी डालत हऊए?"

राजेश-"माटसाहेब, उ लोग हियाँ नइखे रहेलन त पेड़ सूख नू जाई। काहे कि जेठ महिन्ना के रौदा..... ?"

रमेशबाबू-"अरे गधा तोरा पता हउवे न! ऊ कईसन लोग बारें? एक्को-गो आम दी तोहरा के?"

राजेश-"माटसाहेब मोहन भैया आम न दिहें त का होई,

आम पर उनकर अधिकार बा लेकिन ऊ पेड़ से निकले वाला ओस्कीजन त नहियें रोक पईहें, काहे की ऊ हावा होला। एक दिन हमार बचवा पढ़त रहे कि पेड़ ओस्कीजन छोड़ता है जे हमरा सबके खातिर बहुते जरूरी बा।माटसाहेब हम गलती-सलती त नाहीं बोल देली राऊर सामने........?"

रमेशबाबू-"अरे ना रे मूर्खवा तें एकदम सही बात कहले हईं।"

रमेशबाबू उसे पुचकारते हुए ऐसे खुशी से जा रहे थे मानो कोई महत्वपूर्ण चीज पा लिए हों।

हवा पड़ोसी पेड़

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..