Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मैं कल रातभर रूह पलटता रहा ।
मैं कल रातभर रूह पलटता रहा ।
★★★★★

© Indrajit Ghoshal

Abstract

1 Minutes   21.2K    14


Content Ranking

मैं कल रातभर रूह पलटता रहा ।
रूह के तमाम सफ़ो पर लिखे  सभी नन्हे ख्वाब कागज़ों पे उतरे थे,
मेरे साथ वो तमाम ख्वाब समेटके ले आया था मै। 
शोर-ओ-गुल मेँ सच्ची ज़ुबान के ज़ायके से अरसो बाद मिला।

मेरी रूह उन सबके  आलाव् से  सना** था कल ।   
शिफ़ा* मिल रही थी मुझे रफ्ता रफता ।

मैं कल रातभर रूह पलटता रहा ।

शोर-ओ-गुल मेँ सच्ची ज़ुबान के ज़ायके से अरसो बाद मिला।

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post


Some text some message..