Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सुयोग्य वर
सुयोग्य वर
★★★★★

© आकांक्षा पाण्डेय

Drama

2 Minutes   21.4K    40


Content Ranking

प्रियंका एक बेहद ही पढ़ी लिखी और खुले विचारों वाली लड़की थी मगर एक मध्यमवर्गीय परिवार में उसके विचारों को समझने वाला कोई नही था। माँ गृहणी थी और पिता जी एक सरकारी स्कूल में क्लर्क।परिवार का माहौल बिल्कुल साधारण था।दुनिया की चमक दमक से दूर। आज के लोगो को जो चाहिये वो है दिखावा। जो उसके परिवार में था नही। पैसे की कीमत क्या होती है प्रियंका भलीभांति जानती थी। घर मे कमाने वाला एक और इतना ख़र्चा फिर भी पापा को कभी परेशान नही देखा था उसने कभी कुछ नही कहते अपने बच्चो से या पत्नी से। आज प्रियंका की शादी के दिन न जाने पापा क्यूँ बहुत परेशान थे सब तो घर के कामो में व्यस्त थे।प्रियंका अपने कमरे से पापा को देख रही थी बार बार घड़ी पर नज़र डाल कर परेशान से हो रहे थे अचानक लैंडलाइन पर फ़ोन आया उधर से प्रियंका के ससुर का फ़ोन था बोल रहे थे कि 5 लाख रुपया तैयार रखना वरना बारात वापिस ले जाएंगे वो। उधर कमरे में दूसरे फ़ोन से ये सब सुन रही थी प्रियंका। आंखों से आंसू बह रहे थे पापा के भी और प्रियंका के भी। कभी पापा को रोते नही देखा था उसने। दिल मे गुस्सा भरा हुआ था । बारात दरवाजे पर थी और उसके ससुर पापा की तरफ इशारे कर के बुला रहे थे। सुधीर जिसकी शादी प्रियंका से हो रही थीं। शायद वो इन सब से अनजान था।

"देखिये समधी जी हमने अपने बेटे को बहुत पढ़ाया लिखा कर इस लायक इसलिए बनाया ताकि उसकी शादी अच्छे से हो और हैसियत नही थी आपकी तो क्यूँ शादी का रिश्ता तय किया ?" सुधीर के पापा तपाक से बोले।

"ओह्ह पापा ! तो आप मुझे बेच रहे है ?"

सुधीर भी कमरे में आ गया।

"ये तो अच्छा हुआ कि प्रियंका ने आप की सारी बाते मुझे बता दी और अंकल इनकी तरफ से माफी मांगता हूं मैं ! क्षमा कीजियेगा। और चलिये यहाँ से फेरो के लिए देर हो रही है। अंकल आप परेशान मत हो अब प्रियंका मेरी जिम्मेदारी है।"

ये सुनकर पापा के चेहरे पर कुछ सुकून दिखा, प्रियंका को पापा की पसन्द पर गर्व भी !

Dowry Women Strong

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..