Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
नीलकंठ फिर कैसे रुकता
नीलकंठ फिर कैसे रुकता
★★★★★

© Shashipal Sharma

Children Drama

2 Minutes   7.6K    28


Content Ranking

चित्र-1

सड़क के किनारे बैठा एक बूढ़ा बैल लोगों को आते-जाते देख रहा है। उसे कोई नहीं देख रहा। ऊपर आसमान में उड़ता नीलकंठ पंछी उसे देखकर सोच रहा है- बेचारा बैल भूखा प्यासा लगता है। कोई इसपर ध्यान भी नहीं दे रहा है। थोड़ी देर इसके सींग पर बैठता हूँ।

चित्र-2

बैल के सींग पर नीलकंठ आकर बैठा। कुछ लोग नीलकंठ और बैल को प्रसन्न होकर देख रहे हैं। नीलकंठ पंछी अब सोच रहा है - मेरे बैठने से लोगों ने इसे देखा तो सही। शायद अब कोई इसे खाना पानी भी दे।

चित्र-3

नीलकंठ आसमान में। बैल के आगे लोग पालक और रोटी आदि लाकर रख रहे हैं। बैल खा रहा है। नीलकंठ आकाश में अभी तक अभी अब सोच रहा है - आहा! बहुत अच्छा हुआ। अब तो बेचारे बैल का पेट पूरी तरह भर जाएगा।

चित्र-4

बैल के आगे एक महिला पानी की बाल्टी रख रही है। बैल पानी पी रहा है। आसमान में नीलकंठ पंछी अब गा रहा है -

भूखे-प्यासे बैल ने पाया

जी भर भोजन पानी।

लोग यहाँ के पर उपकारी

सज्जन सुख के दानी।।

चिरपिक चिरपिक चूँ

मित्र मिला कुछ बात करूँ।।

चित्र-5

लोग जा चुके हैं। बैल के कान में नीलकंठ कह रहा है+बैल का जवाब-

1. अच्छा प्यारे, बैल भाई! मैं चलता हूँ

2.अरे नीलकंठ! तुम आए कब थे?

चित्र 6

नीलकंठ आसमान में जाते हुए बैल से कहता है-

प्रसन्न रहो मित्र, तुम्हारी मित्रता में मज़ा नहीं आया। मेरा रुकना अब बेकार.....

खड़े हो चुके बैल के दो भाव/कथन

1. ⁉️

2. अरे रे! मैंने पाकर भी मित्र गँवा दिया।

Indian roller bird Bull Children story

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..