Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कोहरा : लघुकथा
कोहरा : लघुकथा
★★★★★

© Archana Tiwari

Others

2 Minutes   7.6K    20


Content Ranking

कोहरा छंट गया था। वातावरण में ठण्ड की चुभन बरकरार थी। रफ़्ता-रफ़्ता नुक्कड़ पर लोगों की आवा-जाही शुरू हो गई थी। हमेशा की तरह भोला के ढाबे पर चाय के तलबगारों का जमावड़ा जुटने लगा था। उसके सामने लैंपपोस्ट के खम्भे के नीचे बेरवाली भी आकर बैठ गई थी। अपने आस-पास पड़े रैपरों व पोलीथीन की थैलियों को जलाकर वह अपनी ठिठुरती उंगलियाँ सेंकने की कोशिश कर रही थी।

उधर सुरतिया चार-पाँच रोज़ से बुखार में बेसुध पड़ी थी। आज थोड़ा होश आया तो नंदू की चिंता सताने लगी। खटोले पर लेटे-लेटे धोती के पल्ले से पाँच का सिक्का खोल कर नंदू को थमाते हुए कहा, “जा नुक्कड़ से कुछ खरीदकर खा ले।”

“अम्मा थोड़े और पैसे दे ना, आज इमरती खाने का बड़ा मन कर रहा है।” नंदू ठुनका।

“अकेल्ली यही पंजी बची है बिटवा...एतने रोज से काम पर नहीं गए...” आँखों को ढपते हुए सुरतिया ने समझाया।

नंदू साइकिल का टायर लुढ़काते नुक्कड़ की ओर चल पड़ा। बेरवाली की अभी तक बोहनी नहीं हुई थी। वह अभी भी पोलीथिन सुलगा रही थी। बीच-बीच में आवाज़ भी लगाती जा रही थी।

“चचा, हमको समोसा चाहिए।” नंदू ने पाँच का सिक्का भोला की ओर बढ़ाते हुए कहा।

“पाँच में समोसा नहीं मिलता...क्यों सुबह-सुबह बोहनी का टाइम खराब करता है।” भोला ने नंदू को प्या‍र से डपटा। नंदू रोआँसा हो गया। वह ढाबे में तले जा रहे समोसे और जलेबियों को बड़ी हसरत से देखने लगा।

“लेओ मीठे-मीठे बेर!” बेरवाली ने फिर आवाज़ लगाई।

उसकी आवाज़ सुनकर नंदू उसे देखने लगा। उसकी नज़र सुलगते रैपरों पर पड़ी। वह उसके पास जाकर खड़ा हो गया। चिट-चिट कर जलते रैपरों को देख कर वह मुस्कुराने लगा। शायद उससे उठने वाली रंगीन लपटों के आकर्षण ने थोड़ी देर के लिए उसकी समोसा खाने की इच्छा को भटका दिया था। नंदू ने अपना टायर लपट के ऊपर कर दिया। टायर जलने लगा। आग तेज होने लगी। बेरवाली उसमें अपने हाथ-पैर सेंकने लगी। उसने मुस्कुराकर नंदू को देखा। फिर डलिया से कुछ बेर लेकर नंदू के हाथ में थमा दिया। धीरे-धीरे टायर आग के गोले में बदल गया।

समय की आग में बहुत कुछ बदल गया। भोला का ढाबा काँच के केबिन में बदल गया। उसकी कुर्सी गद्देदार हो गई है। अब वहाँ उसका बेटा बैठता है। लैंपपोस्ट के खम्भे के नीचे अब नंदू सिंघाड़े का ठेला लगाता है। ठेले के ठीक नीचे एक बूढ़ी औरत सिंघाड़ा उबालती है। और कोहरा है कि फिर छा जाता है।

लघुकथा

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..