Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बच्चो जरा बचके....साइबर बुलिंग
बच्चो जरा बचके....साइबर बुलिंग
★★★★★

© Anshu sharma

Others

4 Minutes   604    17


Content Ranking

मनु को घर मे इंटरनेट नही दिया गया था। क्योंकि साइबर बुलिंग आजकल बहुत सुनने में आ रहा था ।मनु के पिता हर रोज समाचार में इसी तरह की बातें पढ़ते थे।यह एक इंटरनेट के जरिए हुई धमकी, ब्लैक मेलिंग बच्चों को दी जाती है ।वो बच्चो से खेल खेल मे उनकी और घर की जानकारी ले लेते है। काफी अप्रिय घटनाएं घट रही थी। मनु के 12वीं के बाद उसे देने का वादा किया था ।इस बात से मनु अपने माता पिता से बहुत नाराज था उसे लगता था, की सभी बच्चे इंटरनेट का प्रयोग करते हैं तो इसमें गलत ही क्या है ?

मनु के पिता ने उसको अच्छे से बता दिया था । 12वीं कक्षा में अच्छे मार्क्स आने पर ही उसको इंटरनेट मिलेगा अगर कोई स्कूल प्रोजेक्ट या कोई परेशानी होती तो पिता के इंटरनेट उनके सामने ही प्रयोग किया जाता था । मनु के पिता से मनु इस बात से हमेशा उखड़ा हुआ रहता था। मनु का बड़ा मन था कि वह भी सब बच्चों की तरह इंटरनेट पर गेम खेलें ,सब बच्चे स्कूल में नए नए गेम की बातें करते थे, तब मनु चुपचाप बैठा रहता उसे अपनी बेइज्जती महसूस होती थी ।

पर इंटरनेट ना होने की वजह से उसका सारा टाइम पढ़ाई में या टीवी या बाहर खेलने में निकल जाता था मनु के पिता का कहना था। खेलना शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा है ,थोड़ी देर टीवी देखना भी आजकल की समाज में क्या चल रहा है इसकी जानकारी होनी चाहिए। यह कॉमटीशन में प्रश्न पूछे जाते हैं ।आज मनु का रिजल्ट आया मनु ने 90% मार्क्स प्राप्त किए थे ।

मनु आज बहुत खुश था और ज्यादा इसलिए कि उसे इंटरनेट प्रयोग करने का मौका मिलने वाला था जो उसके पिता ने वादा किया था ।मनु ने अपने दोस्तों को पहले ही पूछ लिया था कि वह कौन-कौन से गेम अपलोड करें। मनु के पिता को अब इंटरनेट देने में कोई परेशानी नहीं थी ।मनु ,समझदार हो गया था ।10वीं और 12वीं कक्षा में बच्चे जल्दी ही दूसरों के कहने में आकर गलत काम कर देते हैं। मनु ने इंजीनियरिंग में प्रवेश ले लिया था। वहां उसका एक दोस्त सोहेल बना। सोहेल को इंटरनेट का बहुत शौक था। मनु उसका रूममेट था तो दोनों अक्सर खाली टाइम में गेम खेला करते थे ।कुछ दिन से सोहन बहुत परेशान उसने ज्यादा बातें करना बंद कर दिया था।

मनु को यह है कुछ गलत लगा, उसने बहुत पूछने की कोशिश करें पर सोहेल बताने को तैयार नहीं था। वह अचानक से घबरा जाता और परेशान होकर इधर-उधर घूमने लगता ।सोहेल जब बाहर था, सोहेल के पास किसी का फोन रिंग आई। सोहेल के ना होने की वजह से मनु ने उसका फोन उठा लिया मनु के हेलो बोलने से पहले ही उसको कुछ धमकियां मिलने लगी ,कि हम तुझे छोड़ेंगे नहीं ..

मनु चुप था और उसने फोन रख दिया सोहेल की आने पर मनु ने उसको सारी बातें बताई , सोहेल घबरा गया और रोने लगा उसने बताया इंटरनेट में गेम खेलते हुए कुछ कुछ कुछ प्रश्न के जवाब उसने दिए थे ।जो कि वह मजाक समझ रहा था पर इससे उसको उसके घर के बारे में कितना पैसा है ।बैंक सब का पता चल गया था तब से वो पैसै लाने के लिए मुझे धमकी दे रहे हैं। मैं बहुत परेशान हूं ।

मैं क्या करूं यह कहकर सोहेल रोने लगा मनु ने कहा "ओखली में सिर दिया है तो मुसलों से क्या डरना अब हम इसके खिलाफ आवाज उठाएंगे तू घबरा म "

मनु समझदार था उसनेे सोहेल केे घर फोन करके सबको बताया । सोहेल को हिम्मत दी। यह साइबर बुलिंग है तू घबरा मत अच्छा है समय रहते पता चल गया ।अबकी बार फोन आए तो तुम मुझे बताना ।उन्होंने अगली बार फोन आने पर उस फोन को रिकॉर्डिंग पर डाल दिया जो मैसेज आए। वह भी उन्होंने सेव करके रख लिए और एडमिनिस्ट्रेटिव को कंप्लेन कर दी ।जिससे उनकी जांच पड़ताल शुरू हो गई बहुत सारे प्रूफ होने की वजह से कुछ उसके सीनियर यह सब करा रहे थे ।

जिससे उनकी पॉकेट मनी निकल जाए और रुपए मिलते रहे मनु की समझदारी की वजह से सीनीयर पकडे गये ।साइबर गैंग को पकड़ने में आसानी हुई।जब भी आस पास कुछ गलत देखे , बडो को बताये।

बच्चें इंरनेट धोखा डर

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..