Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
देश का बोनसार्इ पेड़
देश का बोनसार्इ पेड़
★★★★★

© Indrajeet Kaur

Comedy

3 Minutes   15.1K    18


Content Ranking

लहरपुर गाँव का मुखिया अपने क्षेत्र के विकास के लिये बहुत चिन्तित रहता था। वह अपने गाँव का नाम आदर्श गाँव की लिस्ट में देखना चाहता था। एक बार उसने पढ़े-लिखे से अपने पड़ोसी को घर बुलाया और गाँव के आंकड़े उसे दिखाये। उसने आंकड़ों को गौर से देखा और कहा कि तुम्हारा गाँव विकास से काफी दूर है। इसे पटरी पर लाने के लिये कुछ उपाय करने होंगे। मुखिया ने उपाय पूछा। उस बन्दे ने कुछ नहीं बोला। मुखिया ने पुन: उपाय पूछा तो भी वह चुप था। मुखिया समझ गया। उसने प्यार से उसे अच्छा सा खाना खिलाया। कुछ मीठी-मीठी बातें की। यहाँ तक कि उसे अपना सचिव भी नियुक्त कर दिया। हिस्सेदारी प्रथा पर एक-दूसरे के अदृश्य हस्ताक्षर हुए। जेब का वर्तमान तथा भविष्य सुदृढ़ करने के बाद उस नव-नियुक्त सचिव ने उवाचा ‘सड़क तो किसी तरह बरसात से पहले तक चल जायेगी अत: उसके लिये सड़ने की जरूरत नहीं है। बिजली करण के नाम पर बिजली के खम्भे लगवा लो।‘ मुखिया आत्मिक सुख के भाव के साथ दोनों हाथ पीछे कर मुस्कुरा रहा था।

   सचिव ने आगे कहा कि आय के आंकड़े गाँव के विकास को बिल्कुल नहीं दर्शा रहे हैं। गाँव की कुल आय व प्रति व्यक्ति आय बहुत कम हैं। इसे बढ़ाओ। इसके बढ़ने से रहन-सहन का स्तर सुधरेगा और गाँव विकास कर जायेगा। मुखिया चूँकि लोकतांत्रिक व्यवस्था से चुना एक लोकप्रिय बन्दा था अत: पढ़ार्इ उसे कभी अनिवार्य हथियार नहीं लगी। उसने उसी पढ़े-लिखे व्यक्ति से आय बढ़ाने का उपाय इस शर्त पर पूछा कि हर हाल में दोनों का आज व कल सुनहरा रहे। चूँकि पढ़ाकू शख्स मुखिया के घर का नमक खा चुका था अत: वफादारी निभाते हुये उसके सुझाव साँप को तो मार ही रहे थे पर लाठी भी बखूबी बचा रहे थे। कुल आय का आंकड़ा सभी की न सही, कुछ लोगों की आय बढ़ाकर भी बढ़ सकती है अत: सुझावानुसार कुछ गिने-चुने लोगों को ही खजाने का हिस्सा दे दिया गया। इससे गाँव की कुल आय बढ़ गयी थी। इसी आय में से गाँव की जनसंख्या का भाग देकर प्रति व्यक्ति आय निकलती थी अत: पाया गया कि प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ चुकी है। इस सफेद व लाल फीते के गठजोड़ ने औसत का गजब खेल खेला। कमी-बेसी के घनत्व को ताक पर रखकर चेरापूंजी तथा राजस्थान के लोगों को एक ही तरह का छाता दे दिया।

  खैर, इन सबसे किसी को क्या लेना-देना? आंकड़ों के खेल में मुखिया बहुत खुश था। उसने गाँव का एक खूबसूरत प्रवेश द्वार बनाया। खूब अकड़ कर सारे आंकड़े उस पर गुदवाये। गाँव के अन्दर जाने के रास्ते में सबसे पहले उन्हीं के घर बनाये गये जिनकी वजह से कुल आय बढ़ी थी। मुखिया ने इन लोगों को खेत में खड़ा किया। अपनी पगड़ी इन्हें पहनायी। हाथ में मोबाइल थमाया। बगल में ट्रैक्टर खड़ा किया और सबकी योगा वाली हँसी के साथ फोटू खींच ली। फोटो को स्वागत द्वार पर चिपकाया और एक प्रति ऊपर भेज दी। गाँव का नजारा विकास से नहाया हुआ लग रहा था।

#shortstory #satire #corruption #hindistory #hindiliterature

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..