Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मटका
मटका
★★★★★

© Twinckle Adwani

Drama

2 Minutes   7.5K    31


Content Ranking

आज सुबह से घर के पास वाले मंदिर बड़ी भीड़ थी जब हम छोटे थे मां जल्दी से हम भाई बहनों को तैयार का मंदिर ले भक्ति जाती थी और मटके दान करते कुछ फल कुछ मिठाईयां और कपड़े दान करते थे मगर आजकल त्योहार कब आते है पता ही नही चलता मगर इस नए इलाके में कुछ तो खबर मिलती है क्योंकि घर के पास मंदिर है सोच रहा हूं आज एक मटका किसी को दान करूं वैसे भी इतनी गर्मी है कार में जाते एक मटका लेकर पानी भर दिया मंदिर के पास सभी के हाथ में मटके नजर आ रहे हैं ऑफिस के बाहर बैठे वॉचमैन को ही देता हूं बड़ी धूप में बैठा हैं उसने बड़ी खुशी से ले लिया

मगर वह सोचता है कि अभी कुछ दिन पहले ही मैंने मटका लिया है क्यों ना कामवाली जो सुबह झाड़ू लगाने आती उसे मटका दे दूं नई बाई को देता है खुशी से लेती है मगर वो सोचती है मेरे पास तो पहले ही पानी का ड्रम है और सारा दिन घर से बाहर रहती हूं जहां काम करती वहीं पानी पी लेती हूं फिर मटके को रखकर मैं क्या करूंगी क्यों नहीं से किसी गरीब को दान कर दूं मटका घर के पास रहने वाले गरीब भिखारी को दान करती है और दुआएं देता है बहुत खुश होता है मगर वह कुछ महीनों के लिए अपने गांव जाने वाला होता है इसलिए वह मटका घर के पास रहने वाले व्यक्ति को देता है और से इस गर्मी में इस्तेमाल करने के लिए देता है वह व्यक्ति मसान घाट की देखभाल करता है उसे लगता है कि उन्होंने मसान घाट में भरकर रख दूं और वह उस मटके को वही भरकर रख देता है कुछ दिनों बाद एक व्यक्ति की मृत्यु होने पर वहां चिता जलती है जिसमें उस बुजुर्ग व्यक्ति को चक्कर आ जाता है एक तरफ आग का तेज भीषण गर्मी.

वहां काम करने वाला व्यक्ति उसे देख कर समझ जाता है कि गर्मी से परेशान है और वह उस मटके से ठंडा पानी लाकर उसे देता है उसे राहत मिलती है हमारे करम घूम फिर कर हमारे पास ही आते हैं दान का ₹1 भी घूम फिर कर हजारों हाथों से आपके पास ही आ जाता है।

Drama Human Life

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..