Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कविमति
कविमति
★★★★★

© Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Others

1 Minutes   20.6K    6


Content Ranking

मैं अनुसरणों के गीतों का भाव नहीं बनने वाला
मैं कविताई के चरणों का घाव नहीं बनने वाला
मेरी कलमें केवल लिखती हैं झूठे पैमानों पर
कोरे कोरे दिखने वाले मानों पर अभिमानों पर
मेरी कलमें दोधारी हैं शोणित अर्पण करता हूँ
मैं पाखंडों के नयनों के आगे दर्पण धरता हूँ
*
मेरी कलमें भी रोती हैं जब जब सैनिक मरता है
घर के सारे वचन भुलाकर सीमा पर सर धरता है
जब चूड़ी की खन खन के स्वर टूटन राग सुनाते हैं
गमनकाल सैनिक जब कहता बस जल्दी ही आते हैं
जब सरकारें पंगु होकर मनचाही कर देती है
तब तब मेरी कलमें आँसू को स्याही कर देती हैं
*
मेरी कलमें भी इठलाती हैं सावन के झूलों पर
फिरती गुलशन में मदमाती ये सबरंगी फूलों पर
यही प्रेयसी के गजरों की भीनी ख़ुशबू से सनती
कभी प्रणय आमंत्रण में यह मधुरविरोधी सी तनती
पल वियोग फूलों में ख़ुशबू जब घुट के रह जाती हैं
मधुबन का कोना कोना ये ही कलमें महकाती है
*
मेरी कलमों में पानी है वीरों की तलवारों सा
अक्षर अक्षर रणभेरी है छंद छंद प्रतिकारों सा
कभी कभी चिंगारी बन कर भीतर ही निर्धूम उठे
दावानल सी पावक भी है धू धू उर में धूम उठे
जब सिंहासन की चौखट पर कोई अर्ज़
ना होती है
तब समाज के मौनपटल पर कलमगर्जना होती है

 

kavi kavita vijay vidrohi kavimati kalam

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..