Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
लिप्सा
लिप्सा
★★★★★

© Anima Das

Tragedy Inspirational

1 Minutes   13.6K    1


Content Ranking

गुण अवगुण युक्त, मानव की प्रवृत्तियाँ 

लिप्सा धन का उकसाए, तुच्छ दुष्प्रवृत्तियां । 

क्षुब्ध मन का विलाप, और स्वार्थी कामनाएँ 

क्रोध बने विनाशक, नाश हुई कृतियाँ । 

व्यर्थ होता जीवन भी, स्वप्न हर जाता नैन 

पौधा बोये लालच का, ना भाए संस्कृतियाँ । 

रूप लावण्य मोह में, ध्वस्त होती है प्रकृति 

परित्रस्त जीवदशा, लुप्त होती वृत्तियाँ । 

बींध कर रक्त तीर, भीरु करे लक्ष्यसिद्ध 

विचार अमानवीय, धारी है विकृतियाँ । 

व्रत बनाया छल को, शास्त्र भुलाया तन को 

चित्त अशुद्ध गृह भी, अशुद्ध आवृत्तियाँ । 

जीवन अमानवीय छल

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..