Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मौन मन की गूँज है
मौन मन की गूँज है
★★★★★

© Sarita Gupta

Classics Inspirational

1 Minutes   249    28


Content Ranking

वह शब्द है, निः शब्द है, मन का अंतः निनाद है;

प्राण है, प्रारब्ध है, जागृति का शंखनाद है।

देवत्व का प्रमाण है, स्वयं सृष्टि महान है;

पूजा की थाल है, यज्ञ का हुमाद है।


शीतल है, आग है, प्रखर दीपक-राग है;

कल्लोलिनी प्रवाह है, तड़ित ऊर्जा उत्साह है।

प्रेम ही प्रकृति है, संग क्रीड़ा प्रमाद है;

सौंदर्य अभिव्यक्ति है, सृजन काम-आह्लाद है।


देती वह जन्म है, जग पालना ही धर्म है;

साम-दाम, दंड-भेद, करती हर कर्म है।

आदि है, आज है, भूत-भव का अंतराल है;

भुवन की रंग-साज है, हृदय सिंधु विशाल है।


जीवन एक उत्सव है, जब भी वह संग है;

हँसी में खनकती, संगीतमय मृदंग है।

श्रद्धा है, स्नेह है, ममत्व प्रेमकुंज है;

मौन मन की गूँज है, जीवन की शक्तिपुँज है।

प्रकृति सृजन जीवन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..