Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
"मैं"
"मैं"
★★★★★

© Nikhil Sharma

Others

1 Minutes   6.9K    5


Content Ranking

बहुत छोटा है "मैं" का अस्तित्व |
घमंड से भरा हुआ, अहंकार का व्यक्तित्व ||
विजय प्राप्ति हो तो सबसे पहले "मैं" |
त्रुटी हो जाऐ तो अंत में "मैं" ||

बहुत छोटा है "मैं" का अस्तित्व ||
कोई "अभिमानी" होकर गर्जना करता है "मैं" की |
कोई स्वार्थी होकर "अर्चना" करता है "मैं" की || 
कोई अश्रु भर "भर्त्सना" करता है "मैं" की |
कोई तन्हाई में जाकर "विवेचना" करता है "मैं" की || 
अंत में सिर्फ़ "शून्य" रह जाता है |
"मैं" का "मैं", "मैं" में मिल जाता है |

बहुत छोटा है "मैं" का अस्तित्व 
जब "परहित" में कार्य करना हो "मैं" आड़े आता है |
जब बुराई से लड़ना हो "मैं" आड़े आता है ||
"मैं" से अकेले क्या बना ?
सिर्फ़ "ईर्ष्या" या "द्वेष" ?
जब "मैं" हम में बदल जाऐगा तभी बदलेगा देश 
विशेषताऐं अनेक है परन्तु मर्म एक है 
कितने हिस्सों में बाँटोगे ? वेश यहाँ अनेक हैं 
देश को जोड़ना है, या तुम्हे तोड़ना है ?
थोड़ा तो सोच लो, सबके पास "विवेक" है

 

burayi parhit akele

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..