Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
प्रतिरोध अमर है
प्रतिरोध अमर है
★★★★★

© Bharat Prasad Tripathi

Others

3 Minutes   14.0K    4


Content Ranking

जब फुफकारती हुई मायावी सत्ता का आतंक

जहर के मानिंद हमारी शिराओं में बहने लगे

जब झूठ की ताकत  सच के नामोनिशान मिटाकर

हमारी आत्मा पर घटाटोप की तरह छा जाऐ

जब हमारी ज़ुबान फ़िजाओं में उड़ती दहशत की सनसनी से

गूँगी हो जाऐ

जब हमारा मस्तक सैकड़ों दिशाओं में मौजूद तानाशाही की माया से

झुकते ही चले जाने का रोगी हो जाऐ

तो प्रतिरोध अनिवार्य है

अनिवार्य है वह आग जिसे इन्कार कहते हैं

बेवशी वह ज़ंंजीर है जो हमें मुर्दा बना देती है

विक्षिप्त कर देती है वह पराजय

जो दिन रात चमड़ी के नीचे धिक्कार बनकर टीसती है

गुलामी का अर्थ

अपने वज़ूद की गिरवी रखना भर नहीं है

न ही अपनी आत्मा को बेमौत मार डालना है

बल्कि उसका अर्थ

अपनी कल्पना को अंधी बना देना भी है

अपने इंसान होने का मान यदि रखना है

तो आँखें मूँद कर कभी भी पीछे पीछे मत चलना

हाँ हाँ की आदत अर्थहीन कर देती है हमें

जी  जी कहते कहते एक दिन नपुंसक हो जाते हैं हम

तनकर खड़ा न होने की कायरता

एक दिन हमें जमीन पर रेंगने वाला कीड़ा बना देती है

जरा देखो ! कहीं अवसरवादी घुटनों में घुन तो नहीं लग गऐ हैं 

पंजों की हड्डियाँ कहीं खोखली तो नहीं हो गई हैं

हर वक़्त झुके रहने से

रीढ़ की हड्डी गलने तो नहीं लगी है 

पसलियाँ चलते फिरते ढाँचे में तब्दील तो नहीं होने लगी हैं

ज़रा सोचो !

दोनों आँखें कहीं अपनी जगह से पलायन तो नहीं करने लगी हैं 

अपमान की चोट सहकर जीने का दर्द

पूछना उस आदमी से

जो अपराध तो क्या  अन्याय तो क्या

सूई की नोंक के बराबर भी झूठ बोलते समय

रोवाँ रोवाँ काँपता है

याद रखना

आज भी जालसाज़ की प्रभुसत्ता

सच्चाई के सीने पर चढ़कर उसकी गर्दन तोड़ते हुऐ

ख़ूनी विजय का नृत्य करती है

आज भी अय्याश षड्यंत्र के गलियारे में

काटकर फेंक दी गई ईमानदारी की आत्मा

मरने से पहले सौ सौ आँसू रोती है 

अपनी भूख मिटाने के लिऐ

न्याय को बेंच बाँचकर खा जाने वाले व्यापारी

फैसले की कुर्सी पर पूजे जाते हैं आज भी

आज का आदमी

उन्नति के बरगद पर क्यों उल्टा नज़र आता है

आज दहकते हुऐ वर्तमान के सामने

उसका साहसिक सीना नहीं

सिकुड़ी हुई पीठ नज़र आती है

आज हम सबने अपनी अपनी सुरक्षित बिल ढूँढ ली है

ज़माने की हकीक़त से भागकर छिपने के लिऐ

इससे पहले कि तुम्हारे जीवन में

चौबीस घंटे की रात होने लगे

रोक दो मौजूदा समय का तानाशाह पहिया

मोड़ दो वह अंधी राह

जो तुम्हें गुमनामी के पागलखाने के सिवाय

और कहीं नहीं ले जाती 

फिज़ाँ में खींच दो न बन्धु !

इनकार की लक़ीर

आज तनिक लहरा दो न !

ना  कहने वाला मस्तक

बर्फ़ की तरह निर्जीव रहकर

सब कुछ चुपचाप सह जाने का वक़्त नहीं है यह

#hindipoem #hindipoetry #hindiliterature #poetry #poem

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..