Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ग्लेशियर।
ग्लेशियर।
★★★★★

© Asha Pandey 'Taslim'

Fantasy Drama

1 Minutes   13.3K    4


Content Ranking

एक कहानी सुनाती हूँ आज

बर्फ़ से पानी 

और पानी से बर्फ़ की

एक सुदूर पर्वत के चोटी पर

जब ग्लेशियर पिघलता है बूंद-बूंद तब जल बनता है निर्मल,पावन

और ढलान की तरफ़ 

बहते-बहते वो 

झरना बन उतरता है 

पहाड़ के चट्टानी छाती से

पूरे वेग के साथ

उछल कर 

ज़िद्दी बच्चे सा मचलकर धरती की गोद में आता है

और तब शांत हो धीमी गति से जल

नदी बन एक सजीली दुल्हन सी बढ़ती है

आगे कलकल करती हुई

इठलाती नवयौवना की तरह

सागर की ओर बड़ती है नदी

कभी रुकती 

कभी सूखती 

कभी बाढ़ बन डुबोती 

लेकिन थमती नहीं है नदी

जैसे हो मन 

जिसकी गति कोई नहीं रोक सकता

बस एक फ़र्क है 

नदी का जल वाष्प बन उड़ जाता 

बारिश बन बरस कर फिर जल बनता है

लेकिन मन की नदी एहसासों में जम जाये 

तो ग्लेशियर कभी नहीं पिघलता 

कोई झरना नहीं झरता

कोई नदी नहीं बहती

बस एक लद्दाख सा सुनापन लिये

बर्फीला शहर नमूदार होता है

सफेद और दर्द 

जमा जमा सा ग्लेशियर।

कहानी नदी एहसास ग्लेशियर

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..