Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
तमन्ना
तमन्ना
★★★★★

© Meenakshi Sukumaran

Others

1 Minutes   14.4K    3


Content Ranking

तमन्नाओं के बल पर

हो जाते खड़े  महल

तो कोई झोंपड़ी न होती

गर उम्मीद से लहलहा

उठते हरे भरे खेत

तो भूखा कोई पेट न होता

तरसती कोई आँख न होती

अरमानों के सहारे  गर

बस जाती दिल की दुनिया

टूटा कोई दिल न होता

तड़पती कोई रूह न होती

मिटी न दिल से गर

मानवता की परत होती

तो धर्म को लेकर

कोई मांग न उजड़ती

कोई गोद न सूनी होती

प्रीत पलती दिलों में गर

तो खड़ी न नफरत की दीवारें होती

होती कितनी ज़िन्दगी खुशहाल

जो इन प्रश्नों की टंकार न होती

हर प्रश्न से जुड़ा उतर गर होता

हर दिशा दिशाहीन न होती 

हर दिशा दिशाहीन न होती ||

~~~~ मीनाक्षी सुकुमारन ~~~~

तमन्ना

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..