Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
नैतिक मूल्य
नैतिक मूल्य
★★★★★

© Shailaja Bhattad

Drama

1 Minutes   6.7K    7


Content Ranking

जिंदगी को कुदरत का ,

अनमोल उपहार माना है।

इसीलिए गम को,

आज तक नहीं पहचाना है।

दुआ बेशुमार पाई है,

इसीलिए मलाल की कोई भी ,

परछाई / गुंजाइश नहीं है।

ईमानदारी और इज़्ज़त को ,

सर्वोपरी रखा है

इसीलिए बेइमानी ने ,

कभी गला नहीं कसा है।।

Honesty Moral Values

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..