Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ममत्व
ममत्व
★★★★★

© Neetu singh Anjali

Drama

1 Minutes   1.3K    2


Content Ranking

नित नमन माँ के चरणों में,

ममता का भाव अपरम्पार है।

सारा जगत बिन माँ के सूना,

माँ के बिना दुनिया बेकार है।


पूत कपूत सुना पर,

न माता सुनी कुमाता।

न झुका जो माँ के चरणों में,

उसको जनम-जनम धिक्कार है।।


सर्वस्व समर्पित करके भी,

माँ का ऋण चुका न पायेंगे।

माँ त्याग तपस्या की प्रतिमूर्ति,

ममत्व बिन जीवन निस्सार है।।

Poem God Worship

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..