Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
खोई हुई वो शाम
खोई हुई वो शाम
★★★★★

© Neha Noopur

Inspirational

1 Minutes   13.9K    5


Content Ranking



रोज आती थी, गुमसुम सी-

मेरे छत पर अकेली,

न जाने क्या ढूंढ़ती-अपने काँपती उंगलियों से ,

कुछ चुन चुन कर-

अपने पोटली में संजोती,

और चुपचाप चली जाती....




कल मिली तो देखा-

उम्मीद की छोटी डिब्बी में बन्द-

कुछ ख्वाहिशें ...

सुर्ख धूप से चमकती मुंडेरी,

चांदनी में डूबा शीतल आँगन,

महकती बगिया का कलरव,

मंद समीर का मधुर स्पंदन...




एक अनूठा एहसास -

जब वहीं रेत पर बैठ,

हमने बनाया था -

अपने सपनों का महल,

मेरे विश्वास की जमीन पर-

तुम प्रेम की छत ओढ़ा गए थे...



सहेज कर रखा सब-

और फिर साथ खड़े हम -दोनों राह तकते रहे-

पर वो नहीं आई...

दूर क्षितिज पर लालिमा ओढ़े आज बरसों बाद दिखी...

खोई हुई वो शाम....



#पॉजिटिव_इंडिया

सकारत्मक क्रांति हम-तुम सांझ छत एहसास साथ

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..