Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बारिश की जलन
बारिश की जलन
★★★★★

© Pritpal Kaur

Fantasy

1 Minutes   7.0K    7


Content Ranking

कल रात बरसी थी बदरी
छोटी मोटी मासूम शिकायतों के बीच
और फिर ठहर कर 
जायजा लिया था उसने
आसमान में उड़ते तमाम 
इंसानी पंखों का
कहती फिरी थी घर-घर 
मैं कैसे गिरूं बेलौस 
मेरी राह में तो आ बैठी हैं 
धुंए की गहराती मदहोशियाँ
गिरुं भी तो जला देती है मेरा जल
जंगल में लावारिस पड़ी 
पत्तियां
मैंने देखी थी बारिश 
अपनी बालकनी से छिपकर
उसने भी देखा था मुझे सरेआम
और इठला कर 
एक नजर डाल कर मुझ पर 
तिरछी चाल चलती हुई
भिगो गई थी मेरे पैर
कल रात से ही मैं 
भीगे पैर लिए 
घूम रही हूं 
घर और बाहर 
छान रही हूं चप्पा-चप्पा
कि कहीं मिल जाए 
दो बूंद उसी बरसती हुई बारिश के 
कि मेरे सीने में इन दिनों 
जलन बढ़ सी गई लगता है...

rain

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..