Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
क़यामत
क़यामत
★★★★★

© Anita Singh

Others

1 Minutes   14.2K    3


Content Ranking

किसी को चाह कर इल्ज़ाम लेना बुतपरस्ती का
इबादत वो न समझेंगे, अदावत हम न समझेंगे।
 
बदन को सर्द कर देगा ये ग़म आहिस्ता-आहिस्ता
हिफाज़त वो न समझेंगे, हिदायत हम न समझेंगे।
 
असर रहता हमेशा देख लेते इक नज़र उन को
इनायत वो न समझेंगे, शिकायत हम न समझेंगे।
 
ख़ुदा के सामने होगा कोई जो फैसला होगा 
अदालत वो न समझेंगे, वकालत हम न समझेंगे।
 
किसी के चाहने से क्यूँ बदल लें अपनी फितरत को
ज़ियारत वो न समझेंगे, तिज़ारत हम न समझेंगे।

#gazal #hindigazal

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..