Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बादलों की चोट
बादलों की चोट
★★★★★

© Sachin Jagtap

Others

1 Minutes   1.2K    6


Content Ranking

किसान से कहने लगे गालीब
चेहरे पे क्यु बादल छाये हुयें है I
क्या करे हम मालीक, 
हम तो बादलों से ही 
चोट खायें हुये है I
हमने कर्जो तले उम्मीदो के 
बिज बोये हुये है
सब देखते समझते भी'हुजूर'हमारे
देखो कैसे सोये हुये है l
'मजबुरी ' के दामन से होंठ, 
हमारे सिये गये है
अब तो आँखो में
नमी भी नहीं आती | काश ....
उससे ही सिचाई कर लेते I
कम्बख्त पेड भी पाणी का
हफ्ता माँगने लगे, नहीं तो !
उसपे ही लटके हुये मर लेते I
जिने की तो आस बहुत है
घरवालों के प्यारकी प्यास बहुत है
यहाँ सब वादों की खैरात लाये हुये है
इसीलीये ऐ गालीब हम मुरझाये हुये है |

kavita

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..