Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
हाल पूछा है तभी
हाल पूछा है तभी
★★★★★

© Santosh Srivastava

Others

1 Minutes   6.6K    4


Content Ranking

मै मोहब्बत के सफ़े पर

इक तारीख़ सी सजी हूँ और तू मेरे दिल के गोशे में हिना बन के रचा है

जब भी किसी का होकर

ये दिल धड़कता है दर्द कम नहीं

बेहिसाब रहता है इक समँदर सा

नज़दीक ही उमड़ता है

हर लहर का हिसाब रखता है मौजें दिल के क़रीब आती हैं लफ्ज़ कश्ती से थरथराते  हैं कई पाज़ेब की

तरन्नुम बन

चलती पतवार छनछनाती

सुन के वो टूटता,दरकता है मैं घटा बनाया के बरस जाती हूँ मैं अँधेरों की रौशनी उसकी

वो चाँद बन के दरीचों में जगमगाता है वो इधर से ज़रा सा क्या गुज़रा मैकदा पास लगा, मैकशी का आलम

भी

बहके बहके से लगे

सारे नज़ारे तौबा जब लगा यूँ कि बहक जाऊँगी मर जाऊँगी

इश्क़ हीरा है, ज़हराब है

मिट जाऊँगी हाल पूछा है तभी मेरे गमगुसारों ने

हाल पूछा है तभी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..