Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
'आत्मकेंद्रित तुनकमिजाज़'
'आत्मकेंद्रित तुनकमिजाज़'
★★★★★

© Arpan Kumar

Others

2 Minutes   13.4K    3


Content Ranking

बहुत खतरनाक है

किसी व्यक्ति का

तुनकमिजाज होना

ऐसा व्यक्ति

सिर्फ अपने बारे में सोचता है

उसे सिर्फ अपनी

धुन की पड़ी रहती है

वह एक खास तरह की

सनक में जीता है

जिसके आगे हर तरह का तर्क

बेमानी होता है

जो अपने को

हर क़द से ऊँचा समझता है

दूसरों को

अपने हद में रहने की कहता

ख़ुद को

हर हद से ऊपर रखना चाहता है

आत्मकेंद्रन जब बीमारी की हद तक

बढ़ने लगे

कहते हैं

तब कोई इसी तरह 

तुनकमिजाज़ हो जाता है

अपने पैरों को लंबा तान देने की

हड़बड़ी-युक्त चेष्टा में

वह अपने पैर

इस तरह पटकता है कि

दूसरे की नाक टूटे या गर्दन

उसे इसकी कोई परवाह नहीं

और किसी को कुछ होता भी है

तो उसकी अपनी बला से

वह कोई ज़हमत नहीं उठाता

दूसरे की चिंता

उसके लिए कोई

मतलब नहीं रखती

वह तो बस

किसी आत्मलीन चींटी सा

गुड़ की ढेली में

आपादमस्तक डूबा हुआ है

और मिठास मात्र को ढोता हुआ

अपने झुके कंधों से बस

एक सीधी लकीर की

यात्रा तय कर सकता है

उसे इसका कोई मलाल नहीं

उसे सिर्फ विशालकाय गैंडे सा

पसरने आता है

चाहे उसके आसपास के लोगों को

किसी कोने में बैठने

की जगह मिले या ना मिले

किसी को साँस लेने की

गुंजाईश हो या ना हो

वह आपके कंधे पर

उबकाई कर सकता है

वह आपके ऊपर छींक सकता है

अपनी नाक पोंछकर

धृष्टतापूर्वक अपना रुमाल

आपको पकड़ा सकता है

वह बहुत बेशर्म है

और आत्मकेंद्रित भी 

बहुत भदेस तरीके से आपसे

किसी भी हद तक जाकर

आपसे हँसी मजाक कर सकता है     

एक खास तरह के

मनमानेपन में जीता हुआ

वह बस दुनिया को

अपने एड़ियों के नीचे

रखना चाहता है

किसी सिकंदर सा 

विश्वविजयी

बनने की महत्वाकाँक्षा नहीं रखता

मगर वह ऐसे किसी प्रयत्न की

कभी भी धज्जी उड़ा सकता है

वह नहीं है

सिकंदर का पा संग भी

मगर वह उसकी ऐसी-तैसी

निर्द्वंद्व भाव से कर सकता है

वह अपने गल्प प्रवाह में

एक ऐसे नादान और

मनचले बच्चे का सा

व्यवहार करता है

जो किसी पियानो को

एक आकर्षक बक्से से 

अधिक महत्व नहीं देता और

एक साथ उसके

कई सारे बटनों को

दबा देता है

तब जो कर्कश और

बेसुरा स्वर

अन्यथा एक

गरिमापूर्ण वाद्य-यंत्र से

निकलता है

वैसे ही कुछ अनाप-शनाप का प्रलाप

उसकी बातों में होता है

यकीन मानिए,

बहुत खतरनाक है  

किसी व्यक्ति का

तुनकमिजाज होना

और अगर

वह आत्मकेंद्रण का शिकार हो

तो ईश्वर बचाए ऐसे

नीम चढ़े किसी करेले से।

आत्ममोह से ग्रसित लोगों पर तंज़ कसती कविता...

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..