Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कविता

Inspirational

1 Minutes   1.4K    7


Content Ranking


मुक़द्दर जहाँ में उसी का जगा है!

खुद पे ही जिसने भरोसा किया है!!

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

जो भी चला है कांटों के पथ पर!

फ़ूलों का ही फ़िर बिछौना हुआ है!!

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

हर इक खुशी को जिसने है पाया!

गमों का उसी ने ही बोझा सहा है!!

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

जीवन के विष को जिसने चखा हो!

आखिर उसी ने ही अमृत पिया है!!

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

हर दर्द जिनकी दवा बन गया हो!

ज़ख्मों को अपने उसी ने सिया है!!

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

अपना इरादा जो मज़बूत रखते!

बुलंदी को फिर तो उसी ने छुआ है!!

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

*सर्वाधिकार सुरक्षित*


  


Belief Confidence Destiny

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..