Bijjal Maru

Others


Bijjal Maru

Others


मौत से गुफ़्तगू

मौत से गुफ़्तगू

1 min 311 1 min 311

ज़िंदगी  जिसे  बोझ  लगती  थी

बेज़ार  ज़िंदगी  की  दुहाई  देती  थी

जब  मौत  से  गुफ़्तगू  हुई 

गवाही  उसकी  फ़रिश्तों  ने  दी

वक़्त  की  शाख़  लुप्त  हुई,

साँसों  की  लड़ी  टूट  गयी

यादें  उभर  कर  हावी  हुईं

ज़िंदगी  रिवाइंड  मोड़  में  गयी


मौत  से  नज़रें  जब  मिली

जीने  की  आरज़ू  जाग  उठी

आँसुओं  से  आँखें  छलक  गयी 

कुछ  लम्हों  की  मौहलत  माँग  बैठी,

अभी  तो  प्यार  की  ऋतु  लहरायी  थी

अभी  तो  ममता  ने  गले  लगायी  थी


ये  सब  देख,  मौत  मुस्कुरायी

बोली, अक़्ल  तुम्हें  थोड़ी  देर  से आयी


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design