Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
उसके आने के बाद
उसके आने के बाद
★★★★★

© Lalit Mandora

Others

1 Minutes   13.8K    4


Content Ranking

नजरें मिलीं
संवाद भी हुआ
लेकिन चुपके से आँखों के झरोकों में
शब्दों का एक कारवाँ बनता चला गया
बिना छुए जिस्मों में से
लहरें झोल मारने लगीं
लगा अब अंधड़ आएगा
उसके बाद तेजी से पत्ते अपनी
मौजूदगी का एहसास कराएंगे
वहीँ हुआ
हमारे बीच बिना कहे
एक ऐसा संवाद हुआ
जो वाचिक परम्परा से ऊपर की चीज थी
बारिश का आना भी
बेहद लाज़मी था 
ऐसे बरस रहा था पानी
शायद उसको भी पता की
यह कितने दिनों का विरह है
जो अभिव्यक्त हो रहा है
बेपरवाह प्रेम की तरह
अटखेलियां करता हुआ सर्र से बहे जाने को
आमादा था
हमेशा की तरह
हम गीले थे सूखे में होकर भी
गीलापन सतह से उतर कर
हमारी संवेदना में उद्वेलित हो रहा था
प्रेम की लहर बड़ी तेजी से
अपनी जगह बना रही थी
शैतानियाँ हम दोनों के बीच उछल कूद करने लगीं
उँगलियों की पकड़ का जुड़ाव
वैसे ही था
जैसे अभी आसानी से छूटने वाला नहीं था
थमे तब तक मौसम शांत था
सड़कें गीली थी
मन भीगा था
एक रौशनी भीतर तक उजाला कर गई थीं
जिसकी वाकई आवश्यकता थीं
कितने दिनों बाद
मुझ निरक्षर ने पढ़ना सीख लिया था।

#उसके आने के बाद #poem

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..