By

     



Content Ranking

null

  :

Leave a Comment

awsm.

4 months ago

awsm.


hemant kumar
1 year ago

राम को दोहराने से क्या रामराज्य आ जाता है कैकेयी की भर्त्सना क्यूँ? किसके भीतर मंथरा और कैकेयी नहीं कौन नहीं देना चाहता राम को वनवास यानी घर निकाला? लांछन लगानेवाली उंगलियाँ हर घर, चौराहे, नुक्क्ड़ पर है सच पूछो तो वह राम कहीं नहीं---बहुत ही सारगर्भित और असरदार कविता.हार्दिक बधाई रश्मि जी.....

1 year ago

राम को दोहराने से क्या रामराज्य आ जाता है कैकेयी की भर्त्सना क्यूँ? किसके भीतर मंथरा और कैकेयी नहीं कौन नहीं देना चाहता राम को वनवास यानी घर निकाला? लांछन लगानेवाली उंगलियाँ हर घर, चौराहे, नुक्क्ड़ पर है सच पूछो तो वह राम कहीं नहीं---बहुत ही सारगर्भित और असरदार कविता.हार्दिक बधाई रश्मि जी.....