Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
झलक
झलक
★★★★★

© Raman Sharma

Others

1 Minutes   6.7K    6


Content Ranking


तुम्हारी इक झलक के प्यासे थे हम
दिन किस तरह गुज़रे जानते हैं हम , 
कहाँ चले गये थे जुदाईयाँ थमाकर
राहेँ सर उठाकर रहतीँ थी ख़ामोश ,
कोई अपना था जो खो गया था कहीं 
भटक रहा था यहाँ वहाँ तलाश लेकर ,
अपनी प्रिय की मौजूदगी की खातिर 
तरस गई थी आँखें और मेरे नयन ,
अचानक भँवर मेँ चेहरा उभर आया 
खुल गई आँखें और मुस्करा उठे हम ,
क्या प्रशंसा हो उस मनोहर गुलाब की 
बिखेर देता है हर तरफ ख़ुश-बू के रंग ,
सीने में तड़प-बेचैनी थी उनके दीदार की 
आज मिलन से पाया है हमने कुछ सुक़ून ,
कोई अपना सदियों बाद वापिस आया 
मिल गये फिर से वही पुराने रंगीन पल,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

raman sharma

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..