Kanchan Jharkhande

Abstract


Kanchan Jharkhande

Abstract


प्राकृतिक संगीत

प्राकृतिक संगीत

1 min 419 1 min 419

ज़िक्र संगीत का है तो

मुद्दा दूर तलक जायेगा

आधुनिक यन्त्रणा की प्रताड़ना को

शब्दो मे कौन व्यक्त कर पायेगा

क्या खो गया इंसान 


यहाँ तक सँस्कार भी है बिक चुके

क्या खूब थी वह प्राकृतिक धुन

क्या खूब थी कोयल की गुनगुन

उस झरने की आवाज़ में

क्या गज़ब का था सुकून


नदी भी करती थी कलकल

क्या सौंदर्य था उसका 

क्या आवागमन था

चिड़ियाँ की चहचहाट भी 

विहीन सी हो गई


रोज सुबह की वो सब धुन

कहाँ खो गई न जाने अब

खो चला वास्तविक संगीत

खो चला वो पागलपन

गर व्यक्त करूँ मैं भविष्य व्यथा


तो कुछ यूँ होगी आने वाली सुबहें

प्रदूषण की आड़ में

सब जगह निर्वात होगा

या होगा फिर 

अशुद्ध वायु का प्रवाह


स्वास्थ्य भी रुग्ण होगा

अवशेष रह जाएंगी तो केवल

अर्वाचीन की गानविधा

खो गई वो प्रकृति की लय

खो गई वह सुर विधा


जब आधुनिक युग का बच्चा एक

किताबों का वाचन करेगा

प्रकृति के संगीत सुरमयी

पंक्षियों का स्मरण करेगा

ओर महसूस करेगा


लोपित संगीत को

तब प्राचीनमय संगीत

स्त्रोत बनेगा मधुर मनभावन का

ओर दुनिया पुनः चाहेगी

प्राचीनकाल के उस संगीत को


श्रवण करना

और दौड़ेगी पुनः प्रकृति के उस

सौंदर्यरूपी चहचाहट को

सुनने के लिए आतुर होगी। 


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design