Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बेबस बचपन
बेबस बचपन
★★★★★

© Vijay Kumar

Drama

1 Minutes   6.8K    8


Content Ranking

ये बचपन भी कितना,

जिम्मेदार बन गया है,

चेहरे की खुशियाँ भी,

न जाने कहाँ गुम हो गया है।


बचपन की किलकारियाँ,

आज बोझ से तम है,

उनके कंधे पर ये बोझ,

किसी गम से कम है।


बच्चों का घर आंगन आज,

वीराना-सा दिख रहा है,

न जाने क्यों वो गुलामी-सी,

ज़िन्दगी जी रहा है।


बचपन की ज़िन्दगी,

एक कैद-सा बन गया है,

शिक्षित समाज में आज भी,

ये क्या हो रहा है।


होनी थी जिनके हाथो में,

खिलौने किताबों की,

खुशियाँ रूठ-सी गई हैं,

इनकी ज़िन्दगी की।


अब तो इंसान भी,

हैवान नज़र आ रहा है,

जो उनकी मजबूरियों का,

फायदा उठा रहा है।


चेहरे से उनकी हँसी,

गुम-सी हो रही है,

कूड़े-कचरे के ढेर में वो,

अपना जीवन ढूँढ रही है।


क्यों हम जान कर भी,

अनजान बन रहे हैं,

आखिर सभ्य समाज में ये,

कैसी निशानी छोड़ रहे हैं।

Poem Childhood Helpless

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..