Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
दिदार
दिदार
★★★★★

© Manasvi Poyamkar

Romance

1 Minutes   1.4K    3


Content Ranking

कोई आया है दर पर

के आंख आज नम न है

तू जो है मेरे सामने

तो कोई गम न है

देदे दो पल की मोहलत

के तेरा दीदार करूँ ,

रुह को कभी सुकून आये

जी भर के प्यार करूँ

तेरा ये इकरार भी किसी

खुदाई से कम न है

के आंख आज नम न है !

आंख दीदार सुकून

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..