Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
 बेवकूफ़ आदमी
बेवकूफ़ आदमी
★★★★★

© Raman Sharma

Others

1 Minutes   7.0K    8


Content Ranking


नफ़रतों की आग जल रही थी सीने में
समारोह में जाने की ज़रुरत क्या थी ,
सगे संबंधियों को खुश नहीं देख सकते 
नशे में वार्तालाप की जरुरत क्या थी ,
एक पैग पचा नहीं सके वो आज तक
फालतू पैग पीने की जरुरत क्या थी ,
सही से बात नहीं कर सकते किसी से
पीकर गाली बकने की जरुरत क्या थी ,
हाथापाई में सामना नहीं किया जाता 
रणभूमि से भागने की जरुरत क्या थी ,
बात सिर्फ बर्फ सी थी मिटने लगी थी
दोबारा घी डालने की जरुरत क्या थी ,
मन में बदले की भावना ने लिया जन्म 
घटिया से षड्यंत्र की जरुरत क्या थी ,
पैसों का इतना ज्यादा हुआ था घमंड 
लाखों पैसे कमाने की ज़रुरत क्या थी ,
बाहर उनसे मुकाबला नहीं कर सके 
घर में घुसने की उसे ज़रुरत क्या थी ,
ढूँढने पर भी ना मिला वो अत्याचारी
यूँ डरकर भागने की ज़रुरत क्या थी 

raman sharma

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..