Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आँँसू छलक पड़े
आँँसू छलक पड़े
★★★★★

© Dr. Razzak Shaikh 'Rahi'

Romance

1 Minutes   13.9K    11


Content Ranking

इतनी-सी थी बात मगर आँँसू छलक पड़े

सपनों की थी बारात मगर आँँसू छलक पड़े


उम्रभर करते रहे हम जिनका इंतज़ार,

उनसे हुई मुलाकात मगर आँँसू छलक पड़े


एक लफ्ज़ भी न कह पाए हम उनके सामने

रोके बहुत जज़्बात मगर आँसू छलक पड़े


समझाते रहे अपने दिल को हम बार-बार

न बयां हो अपने हालात मगर आँँसू छलक पड़े


इतनी मिली खुशियां न पलकों में समा पाई

मिल गई कायनात मगर आँँसू छलक पड़े...।


Tears Eyes Human Happiness Sadness

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..