Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
अमावस का चन्द्रमा
अमावस का चन्द्रमा
★★★★★

© Anantram Choubey

Drama

1 Minutes   6.7K    7


Content Ranking

अमावस को चन्द्रमा

कहाँ से निकलेेगा ।

रात है अंधेरी

कहाँ से दिखेगा ।

ऊपर से काली

घनघोर घटाये ।

बरसात के मौसम

की चलती हवाये ।

ठंडी हवायें

मन को लुभाये ।

यादे किसी की

मन मे सतायें ।


बारिश की बूंदे

लगे कितनी प्यारी

तपते बदन को

मिले राहत थोरी ।

चाँद है न तारे

चारो तरफ है

अंधेरे ही अंधेरे ।

अमावस को चन्द्रमा

निकलता नही है ।

नियम जो बना है

बदलता नही है ।


बादल गरजते है

बिजली कड़कती है

इधर उधर कही कहीं

काली परछाई दिखती है ।

अमावस की रात है

डरावनी लगती है ।


बरसात का मौसम

झमाझम बारिश

सुहानी लगती है ।

तन को भिगो दे

मन को सुकून दे

फिर भी ये रात

सुहानी लगती है ।

अमावस की रात है

चन्द्रमा बिन ऐसी ही

काली अंधेरी होती है ।

Night Darkness Life

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..