Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
है चाँद छूने की तमन्ना
है चाँद छूने की तमन्ना
★★★★★

© Gulab Jain

Drama Fantasy

1 Minutes   7.4K    17


Content Ranking

है चाँद छूने की तमन्ना

तो ख़्वाब देखिए,

है रौशनी की ग़रज़

तो आफ़्ताब देखिए ।


गर जाननी है जिद्दो-जहद

रोटी के वास्ते,

किसी भी ग़रीब की

ताब-ए-ताब देखिए ।


न जाने खड़े हो गए थे

कितने सवालात,

मुँह छुपा कर फिरते हुए

जवाब देखिए ।


जिन्हें ख़ौफ़े-ख़ुदा न था,

अकड़ दिखाते थे,

पल भर में उनसे छिन गए

ख़िताब देखिए ।


माना अभी 'गुलाब' ने

शोहरत नहीं पाई,

पर एक नज़र इधर भी

जनाब देखिए ।




आफ़्ताब     = सूरज 

ग़रज़        = इरादा 

जिद्दो -जहद  = संघर्ष

ताबे-ताब     = मुश्किल सहने की क्षमता 

ख़ौफ़े-ख़ुदा    = ईश्वर का डर

ख़िताब       = पदवी 

poem moon wish

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..