Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ग़ज़ल
ग़ज़ल
★★★★★

© Saurabh Sharma

Drama

1 Minutes   158    6


Content Ranking

अपना हाल-ए-दिल सुनाऊँ कैसे,

जो बीता मुझपर वो बताऊँ कैसे !


छन्नी छन्नी कर गये वो दिल मेरा,

दिल के ज़ख़्म वो अब दिखाऊँ कैसे !


कल तक मैं ही उनके दिल में था,

अब ग़ैर है, ख़ुद को समझाऊँ कैसे !


पत्थर के मगर हो कैसे गये वो इतने,

अपनी रूह को ये सब बतलाऊँ कैसे !


धोखाधड़ी हो गयी है शायद ये तो,

अब उनसे आगे रिश्ता निभाऊँ कैसे !


कोशिशें सब बेकार रह गयी 'सफ़र',

खिलके मैं इतना अब मुरझाऊँ कैसे !

ग़ज़ल इश्क़ दुःख जीवन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..