Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
रंग और लकीरें
रंग और लकीरें
★★★★★

© Rajeev Pundir

Others

1 Minutes   6.8K    5


Content Ranking

रंग और लकीरें

 

मैं चाहता हूँ
कुछ लिखना
दे दो मुझे वो कलम 
जिसकी स्याही में रंग न हो 
दे दो मुझे वो कागज़ 
जिसमें लकीरें न हों 
खूब परख चुका हूँ मैं 
कि रंग और लकीरें 
दोनों सिर्फ बांटती हैं
और मुझे सिर्फ 
एक करना आता है.

 

तंग आ चुका हूँ मैं 
इन लाल हरी जंजीरों से 
तंग आ चुका हूँ मैं 
ज़मीन पर खिंची लकीरों से
(और मैं ज़ोर से चिल्लाता हूँ )
अरे कोई है-
जो मेरी आवाज़ सुन सके 
अरे कोई है-
जो मुझे थोड़ी सी जगह दे सके 
जहाँ मैं-
खुल के हंस सकूँ 
और-
खुल के रो सकूँ 
जहाँ मैं-
खुल के सो सकूँ 
और जहाँ मैं-
सिर्फ और सिर्फ 
आदमी हो सकूँ.

 

 

राजीव पुंडीर.

 

रंग लाल हरी ज़जीरों लकीरों

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..